सुषमा स्वराज को कि़डनी देने के लिए तैयार हैं भारतीय

इमेज कॉपीरइट AP

भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती हैं. उनकी किडनी फेल हो गई हैं और उन्हें किडनी ट्रांसप्लांट की ज़रूरत होगी.

सुषमा स्वराज ने बुधवार को ट्वीट करके लोगों को बताया था कि वो इलाज के लिए एम्स में भर्ती हैं.

सुषमा के किडनी फेल होने की जानकारी देने के बाद कई लोग उन्हें किडनी दान का प्रस्ताव दे रहे हैं.

ट्विटर पर दिए जा रहे इन मैसेजों पर सुषमा ने लिखा, ''कुछ दोस्तों ने मेरे ट्रांसप्लांट के लिए अपनी किडनी देने का प्रस्ताव दिया है. उनके प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं.''

उन्होंने लिखा, आपकी दुआओं और भगवान कृष्ण के आशीर्वाद से मैं इस स्थिति से निकल आऊंगी.

ट्विटर पर सुषमा को किडनी दान करने का प्रस्ताव देने वाली उत्तर प्रदेश के सीतापुर के भारतेंदु शुक्ला ने बीबीसी से कहा, "मैंने मानवता के नाते सुषमा जी को किडनी देने का मन बनाया है. इसके अलावा और कोई वजह नहीं है."

एक नर्सरी में काम करने वाले 31 साल के भारतेंदु कहते हैं कि उन्हें अभी किसी तरह का कोई कॉल नहीं आया है लेकिन अगर संपर्क किया गया तो वो सुषमा स्वराज को अपनी किडनी ज़रूर देंगे.

इमेज कॉपीरइट @NIKHILDADHICH

जम्मू के 24 वर्षीय खेमराज शर्मा ने भी सुषमा स्वराज को अपनी किडनी देने की बात ट्विटर पर लिखी है.

बीबीसी से बातचीत में उन्होंने बताया कि मैं बीजेपी का समर्थक हूं और सुषमा स्वराज और नरेंद्र मोदी को अपनी किडनी दे सकता हूं.

शर्मा कहते हैं, ''सुषमा ने विदेशों में फंसे भारतीयों के लिए बहुत कुछ किया है. वो कामगारों के काम के लिए रविवार को भी अपना मंत्रालय खुलवा देती हैं.''

निखील दाधीच ने ट्वीट किया, ''अगर आप चाहें तो मैं अपनी किडनी देने के लिए तैयार हूँ. देश को आपकी सेवाओं की ज़रूरत है.''

नवीन तिवारी ने लिखा, "सुषमा जी, क्या मैं आपको अपनी किडनी दे सकता हूं. मुझे खुशी होगी अगर मैं भारत के सबसे योग्य विदेश मंत्री के काम आ सकूं. आपकी इस देश को ज़रूरत है."

इमेज कॉपीरइट @SSHYAM

इनके अलावा कई और लोगों ने सुषमा स्वराज को ट्विटर पर किडनी देने का प्रस्ताव दिया है.

लेकिन एम्स के अधिकारी राजीव मैखुरी ने बीबीसी से कहा कि उनके दफ़्तर में अभी इसी तरह का कोई फ़ोन या संदेश नहीं आया है.

उन्होंने कहा कि वो नहीं जानते हैं कि सुषमा को किडनी दान देने की रिपोर्टें कहां से आ रही हैं.

मिलते-जुलते मुद्दे