क्या था केजरीवाल के बीबीसी पर भड़कने का मामला

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 'नोटबंदी' के मामले पर बीबीसी हिंदी से बात की.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 'नोटबंदी' के मामले पर बीबीसी हिंदी से ख़ास मुलाक़ात की, लेकिन कुछ सवालों को लेकर केजरीवाल काफ़ी नाराज़ हो गए.

फ़ेसबुक लाइव पर किए गए इंटरव्यू की शुरुआत नोटबंदी से जुड़े कुछ व्यवहारिक सवालों के साथ हुई थी.

इनके जवाब के तौर पर केजरीवाल ने कहा कि वे पीएम मोदी के इस फ़ैसले के ख़िलाफ हैं. इससे देश की जनता को तमाम तरह की दिक्कतें हो रही हैं.

केजरीवाल ने कहा, "मुझे नरेंद्र मोदी और उनके फ़ैसले से सख़्त नफ़रत है. यह सरकार आम आदमी की जेब से करीब ग्यारह लाख़ करोड़ रुपये निकलवाकर, उन्हें बैंकों में जमा करवाना चाहती है. ताकि देश की बड़ी-बड़ी कंपनियों का लोन माफ़ किया जा सके."

Image caption बीबीसी संवाददाता नितिन श्रीवास्तव के साथ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल.

आरोपों की इस कड़ी में केजरीवाल ने नोटबंदी को देश का अब तक का 'सबसे बड़ा स्कैम' करार देते हुए कई राजनेताओं और उद्योगपतियों पर भी गंभीर आरोप लगाए. सबूत के तौर पर केजरीवाल ने कुछ असत्यापित कागजात का हवाला दिया. साथ ही कहा कि मोदी सरकार के एक गलत फ़ैसले के चलते देश के 55 निर्दोष लोगों की मौत हुई है.

इन 55 लोगों की मौत नोटबंदी के चलते हुई, बीबीसी इस तथ्य की पुष्टि नहीं करता है. केजरीवाल इसी बात पर भड़क उठे. फ़ेसबुक लाइव में केजरीवाल ने बीबीसी की पत्रकारिता और निष्पक्षता पर भी सवाल उठाए.

इससे पहले इंटरव्यू में ये पूछने पर कि आजकल बटुए में कितने पैसे हैं, केजरीवाल ने कहा, ''अभी मेरी जेब में 250 रुपए हैं.'' क्या 8 नवंबर के बाद इस मामले में कुछ चिंता रही है, इस पर उन्होंने कहा, ''घर में चिंता रहती है, क्योंकि मुझे मिनट दर मिनट पैसे की ज़रूरत नहीं पड़ती, लेकिन घर के लोग लाइन में लगकर पैसे निकालकर लाए हैं.''

कौन गया था पैसे निकालने, इसके जवाब में केजरीवाल ने बीबीसी से कहा, ''मेरे घर से मेरे परिवार के सदस्य गए थे. मैं उसे कोई मुद्दा नहीं बनाना चाहता. कुछ लोग अपनी मां को लगाकर और कुछ लोग ख़ुद...वो अहम नहीं है.''

उन्होंने कहा, ''महत्वपूर्ण ये है कि 500 और 1000 के नोट जब से बंद हुए हैं और देश भर में अफ़रा-तफ़री मच गई है. लोगों के बिज़नेस बंद हो गए हैं. मज़दूरी नहीं मिल रही है. किसान अपनी फ़सल नहीं बो पा रहा है. जिनके घर में शादी है, वो बेचारे 500 और 1000 के नोट लेकर घूम रहे हैं.''

इमेज कॉपीरइट TWITTER

शादी की तैयारियों में लगे परिवारों को अब ढाई लाख रुपए निकालने की इजाज़त है, इस पर दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा, ''अभी (वित्त मंत्री अरुण) जेटली ने बेटी की शादी की है. वो कर लेते ढाई लाख में शादी. अच्छा उदाहरण जाता. फिर कह सकते थे कि ढाई-ढाई लाख में करो.''

केजरीवाल ने कहा, ''ये किस तरह की राशनिंग है. आप तो कहते थे कि हम मुक्त बाज़ार में रहते हैं. और अब आपने पैसों की राशनिंग कर दी.''

ख़बरों के मुताबिक़ अन्ना हज़ारे ने नोटबंदी के फ़ैसले का स्वागत किया है, इस पर उन्होंने कहा, ''ये आज़ाद भारत का सबसे बड़ा घोटाला है. मैं उनकी (अन्ना हज़ारे) की बहुत इज़्ज़त करता हूं, लेकिन अगर उन्होंने ऐसा कहा है तो इस पर मतभेद है.''

केजरीवाल ने बीबीसी से कहा, ''बैंकों ने बड़ी-बड़ी कंपनियों को आठ-साढ़े आठ लाख करोड़ रुपए का कर्ज़ दे रखा था. वो अरबपति कर्ज़ डकार गए हैं. रिज़र्व बैंक और कैग की रिपोर्ट है. अलग-अलग अनुमान हैं. सुप्रीम कोर्ट में चल रहे केस में भी ये आंकड़े दिए गए हैं.''

इमेज कॉपीरइट AFP

उन्होंने कहा, ''आठ-साढ़े आठ लाख करोड़ रुपए में से एक लाख चौदह हज़ार करोड़ का कर्ज़ मोदी सरकार ने माफ़ कर दिया. बाकी माफ़ करने के लिए बैंकों के पास पैसे नहीं थे. बैंक कंगाल हो रहे थे. तब ये पूरा षडयंत्र रचा गया. 500 और 1000 के नोट बंद कर देते हैं. लोगों से कहेंगे कि अपना पैसा बैंकों में जमा कराओ.''

केजरीवाल ने कहा, ''इन्हें उम्मीद है कि इससे 10 से 11 लाख करोड़ रुपए जमा होगा. इस पैसे से बाक़ी बचा 7 लाख करोड़ रुपया बड़ी कंपनियों का माफ़ करेंगे. इसका सबसे बड़ा सबूत ये है कि अभी तो लोगों ने अपना पैसा जमा कराना शुरू ही किया था. सात ही दिन हुए थे और स्टेट बैंक ने 63 बड़े-बड़े अरबपतियों के छह हज़ार करोड़ माफ़ कर दिए."

आप नेता ने आरोप लगाया कि विजय माल्या को देश से भगा दिया गया है. सज़ा देने के बजाय लोन माफ़ कर रहे हैं.

केजरीवाल ने बीबीसी से कहा, ''लेकिन अब सवाल आता है कि ऐसा क्यों किया जा रहा है. छह हज़ार करोड़ में से 1200 करोड़ विजय माल्या के माफ़ कर दिए. ये दस्तावेज़ आयकर विभाग के हैं. मेरे मोदी जी से सौ मतभेद हो सकते हैं. लेकिन मैं ये मानता था कि वो ईमानदार हैं.''

उन्होंने बीबीसी से कहा, ''ये दस्तावेज़ सामने आए हैं, वो मन में सवाल पैदा करते हैं. बिड़ला ग्रुप के लैपटॉप में एक एंट्री मिली है - गुजरात सीएम. 25 करोड़. 12 डन. रेस्ट? इससे ये अंदाज़ा होता है कि गुजरात के मुख्यमंत्री को 25 करोड़ देने थे, 12 दे दिए, बाक़ी बचे हैं.''

इमेज कॉपीरइट TWITTER

फेसबुक पर आए सवाल कि क्या इन सबूतों को लेकर वो सुप्रीम कोर्ट जाएंगे, इस पर उन्होंने कहा, ''अलग से जाने की क्या ज़रूरत है. ख़बर आई है कि प्रशांत भूषण केस कर चुके हैं. इस मामले की जांच नहीं हुई दो साल से. भला हो प्रशांत भूषण जी का, जिन्होंने ये सुप्रीम कोर्ट में फाइल की. देखते हैं क्या होता है.''

प्रदूषण के मुद्दे पर केजरीवाल ने माना कि दिल्ली सरकार को कई क़दम उठाने चाहिए थे. उन्होंने कहा, ''उस समय जो अचानक प्रदूषण हो गया था, उसकी वजह पड़ोसी राज्यों में फ़सल का जलना भी था. जब हवा चली, तो वो कुछ छंटा. दिल्ली में अपना प्रदूषण का स्तर काफ़ी ज़्यादा है, ऐसे में हालात और बिगड़ जाते हैं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे