'नोटबंदी से भड़क सकते हैं दंगे'

इमेज कॉपीरइट AP

'हिदुस्तान टाइम्स' अख़बार के पहले पन्ने पर छपी एक ख़बर के अनुसार सुप्रीम कोर्ट ने नोटबंदी के बाद की स्थिति को बेहद गंभीर बताया है और आशंका जताई है कि इससे दंगे भड़क सकते हैं.

कोर्ट ने शुक्रवार को सरकार से कहा कि देश में पैसे की कमी से निपटने के लिए सरकार को और काम करना होगा है. कोर्ट ने चेतावनी दी कि हालात गंभीर हैं और इसमें सुधार नहीं किया गया तो दंगे होने की आंशका हैं.

कोर्ट ने पूछा कि जब लोग नोटबंदी को ले कर परेशान हैं तो सरकार ने पुराने नोट बदलने की सीमा 4000 से घटाकर 2000 क्यों कर दी.

इमेज कॉपीरइट AFP

कोर्ट ने यह भी कहा कि नोटबंदी से प्रभावित लोग यदि कोर्ट का रुख़ करते हैं तो यह उनका अधिकार है. उस संबंध में दायर सभी याचिकाएं स्वीकार की जाएंगी.

इस बीच दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार ने निजी अस्पतालों को चेक, डिमांड ड्राफ्ट और ऑनलाइन पेमेंट के ज़रिए पैसे लेने का आदेश दिया है ताकि मरीज़ों को अधिक परेशानी न झेलनी पड़े. यह ख़बर छपी है 'हिंदुस्तान टाइम्स' में.

'इंडियन एक्सप्रेस' के पहले पन्ने पर छपी एक ख़बर के अनुसार सुप्रीम कोर्ट ने जजों की भर्ती के लिए कॉलेजियम के सुझाए 43 नामों पर केन्द्र सरकार को दोबारा विचार करने के लिए कहा है.

कॉलेजियम ने हाईकोर्ट में जजों की भर्ती के लिए 77 नामों की लिस्ट सरकार के पास भेजी थी जिनमें से 43 नामों को सरकार ने रिजेक्ट कर दिया था.

'पायोनियर' में छपी एक ख़बर के अनुसार बांसुरी वादक हरिप्रसाद चौरसिया को साल 2016 के सुमित्रा चरत राम अवार्ड से नवाज़ा गया है.

दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में दिल्ली के उप राज्यपाल नजीब जंग ने उन्हें प्रशस्ति पत्र, शॉल और रजत पदक दे कर इस अवार्ड से सम्मानित किया.

उनसे पहले बिरजू महाराज, केशोरी अमोनकर, पंडित जसराज, मायाधर राउत और कुमुदिनी लाखिया को इस सम्मान से नवाज़ा जा चुका है.

इमेज कॉपीरइट AP

'दैनिक भास्कर' में छपी एक ख़बर के अनुसार राजस्थान के 11 हज़ार पांच सौ प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूल इकलौते शिक्षकों के भरोसे संचालित हो रहे हैं.

इन स्कूलों में पांच कक्षाओं पर बच्चों को पढ़ाने का काम कर रहे शिक्षक के डाक देने या छुट्टी पर चले जाने से स्कूल में ताले लग जाते हैं. यह खुलासा हुआ है प्रारंभिक शिक्षा विभाग की एक रिपोर्ट में.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे