प्रेस रिव्यू: 'धर्म बदलने पर क़त्ल, आरएसएस कार्यकर्ता गिरफ़्तार'

इमेज कॉपीरइट AP

'द इंडियन एक्सप्रेस' की एक रिपोर्ट के मुताबिक केरल में हिंदू से मुसलमान बने एक युवक की हत्या के शक़ में आरएसएस के आठ कार्यकर्ताओं को गिरफ़्तार किया गया है.

मल्लापुरम ज़िले के अनिल कुमार हाल ही में इस्लाम अपनाकर फ़ैसल बने थे और 19 नवंबर को उनका क़त्ल हो गया था. रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस का कहना है कि धर्म परिवर्त के बाद से अनिल के रिश्तेदार ग़ुस्से में थे और उन्होंने स्थानीय आरएसएस नेताओं से मदद मांगी जिन्होंने क़त्ल की साज़िश रची.

'द इंडियन एक्सप्रेस' की ही एक और रिपोर्ट के मुताबिक देश के सात राज्यों में 27 प्रमुख दवाइयां परीक्षणों में फेल हो गई हैं. इन दवाइयों को 18 प्रमुख कंपनिया बनाती हैं. रिपोर्ट के मुताबिक ये दवाइयां मानकों के अनुरूप नहीं है और इन पर जानकारी भी ग़लत लिखी होती है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption नोटबंदी के बाद भारत में बैंकों और एटीएम के बाहर लंबी कतारें देखी जा रही हैं.

'हिंदुस्तान टाइम्स' की एक रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली पुलिस के एक सब इंस्पेक्टर ने व्यापारी को नए नोट मुहैया कराने के नाम पर तेरह लाख रुपए ठग लिए. रिपोर्ट के मुताबिक कल्याणपुरी में तैनात सुधीर राठी ने बिहार के एक व्यापारी से 18 लाख रुपए लिए थे और उन्हें बदले में 13 लाख रुपए के नए नोट देने का वादा किया था.

रिपोर्ट के मताबिक बिहार में कपड़े का कारोबार करने वाले सैफ़ुद्दीन 18 लाख रुपए कैश लेकर 7 नवंबर को दिल्ली आए थे लेकिन अगले ही दिन नोटबंदी का ऐलान हो गया और उनके पुराने नोट किसी व्यापारी ने स्वीकार नहीं किए.

'बिज़नेस स्टेंडर्ड' की एक रिपोर्ट के मुताबिक नोटबंदी के कारण कपड़ा उद्योग से जुड़े मज़दूरों और कारीगरों को भारी दिक्कत हो रही है. निर्माताओं के पास कारीगरों को पगार देने के लिए पैसे नहीं है. तमिल नाडु के तिरूपूर से गई रिपोर्ट में बताया गया है कि बाज़ार में सन्नाटा पसरा है. इस शहर में सालान 2500 करोड़ रुपए का कारोबार होता है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption नोटबंदी के कारण बड़ी संख्या में लोग प्रभावित हुए हैं.

नोटबंदी के असर पर 'द हिंदू' ने ऐसी महिला की कहानी प्रकाशित की है जिनके सामने दिल्ली छोड़कर वापस गांव लौटने का संकट पैदा हो गया है. घरेलू नौकरानी का काम करने वाली कमला देवी कहती हैं, "हम पर क़यामत टूट पड़ी है. महीने का आख़िर में हमारे पास खाने तक के लिए नहीं बचा है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे