जेल से फ़रार होने वाले 'खालिस्तानी चरमपंथी' मंटू

इमेज कॉपीरइट punjab police
Image caption चरमपंथी हरमिंदर मंटू को दिल्ली से गिरफ़्तार किया गया है.

पंजाब की नाभा सेंट्रल जेल से रविवार को पांच अन्य क़ैदियों के साथ फ़रार हुए कथित खालिस्तानी चरमपंथी हरमिंदर मंटू को दिल्ली से गिरफ़्तार किया गया है.

पुलिस के मुताबिक मंटू फ़रार होने के बाद फर्च्यूनर से कैथल और फिर हुलिया बदलने के बाद एक अन्य फ़रार क़ैदी कश्मीरा सिंह से साथ जीप के ज़रिए दिल्ली पहुंचे थे.

पुलिस का कहना है कि मंटू ने अपना हुलिया बदल लिया था, बाल काट लिए थे. दाढ़ी और मूंछ की छंटाई के जरिए उन्होंने अपना हुलिया काफी बदल लिया था.

उन के पास से एक पिस्तौल और छह कारतूस भी बरामद हुए है. पुलिस का दावा है कि वो मुंबई और फिर गोवा जाना चाहते थे.

नाभा सेंट्रल जेल पर हुए हमले के बाद से गोंदर गैंग का मुखिया विक्की गोंदर, गुरप्रीत शेखू, नीटा देओल, अमनदीप धोतिया और हरमिंदर मंटू फरार हो गए थे.

जेल पर हमला करने वालों में कथित तौर पर शामिल परमिंदर को रविवार शाम उत्तर प्रदेश के शामली से गिरफ़्तार किया गया था. वो एक एसयूवी में जा रहे थे और पुलिस के अनुसार उनसे कई हथियार बरामद हुए हैं.

आइए जानते हैं कि पुलिस हरमिंदर सिंह मंटू के बारे में क्या कहती है-

इमेज कॉपीरइट AFP
  • पंजाब में चरमपंथ के दौरान मंटू ने खालिस्तान लिबरेशन फ़ोर्स (केएलएफ़) की स्थापना की.
  • वो केएलएफ के स्वयंभू प्रमुख हैं और पंजाब व हरियाणा में क़रीब दस मामलों में वांछित हैं.
  • वो 2010 के बाद देश से बाहर चले गए थे. उन्हें 2014 में थाईलैंड से भारत प्रत्यर्पित किया गया. इसके बाद उन्हें पंजाब पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था.
  • मंटू 2008 में डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख राम रहीम पर हमले का आरोप है.
  • हलवारा के एयरफ़ोर्स स्टेशन पर विस्फोटक पदार्थ फेंकने का आरोप है.
  • गुरदासपुर में शिवसेना नेता पर हमले का आरोप मंटू पर है.