जम्मू: 'सैन्य शिविर पर हमला, सात फ़ौजी मारे गए'

इमेज कॉपीरइट AP

जम्मू के नगरोटा में चरमपंथियों ने मंगलवार सुबह सेना के एक शिविर पर हमला किया और उसके बाद चले ऑपरेशन में भारतीय सेना के दो अफ़सरों और पांच सैनिकों की मौत हो गई है.

इस ऑपरेशन में तीन चरमपंथी भी मारे गए हैं. भारतीय सेना के अनुसार, चरमपंथी सैन्य शिविर में अफ़सरों की मेस और अन्य इलाक़ों में दाखिल हुए थे और 12 सैनिक, दो औरतों और दो बच्चों के बंधक बनाए जाने की स्थिति पैदा हो गई थी.

लेकिन ऑपरेशन के दूसरे चरण में भारतीय सेना की ज़ोरदार कार्रवाई के कारण इन 12 सैनिकों, दो औरतों और दो बच्चों को बचा लिया गया.

भारतीय सेना के प्रवक्ता कर्नल मनीष मेहता ने कहा, "सैन्य शिविर में कोम्बिंग ऑपरेशन जारी है जो केवल रात के समय रुका है. पूरे इलाक़े की घेराबंदी की गई है. दो अफ़सर और पांच सैनिक मारे गए हैं. हथियारबंद चरमपंथियों ने भारतीय समयानुसार सुबह साढ़े पांच बजे 166 मिडियम आर्टिलरी रेजीमेंट पर हमला कर किया था. नुक़सान का अभी जायज़ा लिया जा रहा है.''

कर्नल मेहता के अनुसार बुधवार को भी कोम्बिग ऑपरेशन जारी रहेगा.

जम्मू से लगभग 15 किलोमीटर दूर स्थित नगरोटा में ही भारतीय सेना के 16 कोर का मुख्यालय है. यह सीमाओं की सुरक्षा और चरमपंथ विरोधी अभियानों की योजना बनाता है.

इमेज कॉपीरइट EPA

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार चरमपंथियों की ओर से कुछ लोगों को बंधक बनाने की स्थिति पैदा हो गई थी लेकिन सेना ने 12 सिपाहियों, दो महिलाओं और दो बच्चों को छुड़ा लिया.

इमेज कॉपीरइट AP

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ एक अलग घटना में सांबा सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास घुसपैठ का प्रयास कर रहे चरमपंथियों और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ़) के जवानों के बीच भी गोलीबारी की ख़बर है.

सांबा सेक्टर में बीएसएफ़ ने तीन चरमपंथियों को मारने का दावा किया है. बीएसएफ़ के एक अधिकारी ने कहा, ''हमारे जवानों ने मंगलवार सुबह तीन घुसपैठियों को मार दिया.''

जम्मू को कश्मीर घाटी से जोड़ने वाले हाइवे पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है और यातायात को रोक दिया गया है. जम्मू ज़िले के आयुक्त सिमरनदीप सिंह ने नगरोटा के स्कूलों को बंद करने के आदेश दिए हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

भारत प्रशासित जम्मू कश्मीर के उड़ी में भारतीय सेना के एक शिविर पर 18 सितंबर को हुए चरमपंथी हमले के बाद से भारत और पाकिस्तान की सीमा पर तनाव बना हुआ है.

भारत ने 29 सिंतबर को दावा किया था कि भारतीय सैनिकों ने 28 सितंबर की रात पाकिस्तान के क़ब्ज़े वाले कश्मीर में जाकर चरमपंथी शिविरों पर सर्जिकल स्ट्राइक की है और इसमें पाकिस्तान को भारी नुक़सान हुआ है.

पाकिस्तान ने इस तरह के किसी भी तरह के सर्जिकल स्ट्राइक से इनकार किया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)