विवादित बयानों से राबड़ी देवी का नाता पुराना

इमेज कॉपीरइट PTI

बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी एक बार फिर से अपने बयान के कारण चर्चा में आ गई हैं.

मंगलवार को बिहार विधानसभा के शीतकालीन सत्र में भाग लेने के बाद राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने सीएम नीतीश कुमार और पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पर निशाना साधा है .

राबड़ी देवी ने एक सवाल के जवाब में कहा, "नीतीश कुमार को उठाकर ले जायें सुशील मोदी जी, अपनी बहन से शादी कराएं."

लालटेन की लौ बचा पाएँगी राबड़ी देवी?

जंगलराज कहने वालों को जवाब मिल गया: राबड़ी

राबड़ी देवी से नोटबंदी पर नीतीश कुमार और बीजेपी से कथित नज़दीकी को लेकर सवाल पूछा गया था.

सर्जिकल स्ट्राइक और नोटबंदी के मुद्दे पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राष्ट्रीय जनता दल सुप्रीमो लालू प्रसाद से अलग स्टैंड लेकर केंद्र सरकार के फ़ैसले का स्वागत किया था.

इसको लेकर बिहार के सत्तारूढ़ महागठबंधन में मतभेद की छाया साफ़ दिखने लगी है और इसका ताज़ा उदहारण ये टिप्पणी है. दरअसल, राबड़ी का विवादित बयानों से पुराना रिश्ता रहा है.

इमेज कॉपीरइट PTI

उनके इस तरह के बयानों से राज्यपाल, मुख्यमंत्री, राज्य मंत्री तक नहीं बच सके हैं.

वर्ष 2001 में तत्कालीन राज्यपाल सुंदर सिंह भंडारी ने जब नीतीश कुमार को सरकार बनाने का मौक़ा दिया था तब राबड़ी देवी ने उनकी शारीरिक बनावट पर टिपण्णी की थी.

उन्होंने केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान की विधायक समधिन पर सदन के भीतर वर्ष 2005 में टिपण्णी और 2011 में एक पूर्व महिला मंत्री को सदन में चप्पल दिखा कर और अभद्र टिपण्णी कर अपमानित किया था.

छपरा की एक सार्वजनिक सभा में वर्ष 2010 में जदयू के एक वरिष्ठ नेता और वर्तमान मंत्री और मुख्यमंत्री के रिश्ते को लेकर आपत्तिजनक टिपण्णी की थी.

इमेज कॉपीरइट PTI

मामले पर मानहानि का मुक़दमा भी दायर हुआ, लेकिन नीतीश-लालू के बीच जब महागठबंधन को लेकर सहमति बनी तब समझौता हो गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)