प्रेस रिव्यू: गवर्नर को तलब करेंगी संसदीय समितियां

इमेज कॉपीरइट Reuters

इंडियन एक्सप्रेस अख़बार की एक ख़बर के मुताबिक़ कांग्रेस सांसदों की अध्यक्षता वाली दो संसदीय समितियों फाइनेंस कमेटी और पब्लिक एकाउंट्स कमेटी ने तय किया है कि वे आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल और वित्त सचिव शक्तिकांत दास से सरकार की आर्थिक नीतियों और विमुद्रीकरण के प्रभावों की पड़ताल करने के लिए कहेंगी.

ये क़दम ऐसे समय उठाया गया है जब नोटबंदी के मुद्दे पर सरकार और विपक्ष के बीच टकराव के कारण संसद ठप है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक़ नोटबंदी का सब्जियों और फल के कारोबार पर बहुत अजीब असर देखा जा रहा है.

अख़बार के मुताबिक़ ग्रामीण इलाक़ों में नगदी की कमी के चलते सब्जियों के थोक भाव में भारी गिरावट आई है. क्योंकि गांवों में ट्रांसपोर्ट से लेकर मंडी और खरीद तक नगदी में ही होती है.

वहीं शहरों में जहां नगदी थोड़ी ज़्यादा पहुंची है, वहां मंडियों में सब्जियां ज़्यादा आ रही हैं, थोक मूल्य कम हुआ है. लेकिन खुदरा मूल्य में बहुत मामूली कमी आई है.

टाइम्स ऑफ इंडिया अख़बार में छपी ख़बर के मुताबिक़ नोटबंदी के बाद नगदी की कमी से निर्माण कार्यों में कमी आई है. निक्केई इंडिया मैन्युफैक्चरिंग परचेज़िंग मैनेजर्स इंडेक्स (पीएमआई) अक्तूबर के 54.4 से घटकर नवंबर मे 52.3 पर पहुंच गया.

इमेज कॉपीरइट AFP

हिन्दुस्तान टाइम्स अख़बार ने लिखा है कि गुरुवार को मिले आंकड़ों के मुताबिक़ नवंबर में उपभोक्ताओं ने कम खरीदारी की.

अख़बार के मुताबिक़ मोबाइल फोन, साबुन, तेल, डिटर्जेंट, टूथपेस्ट, कॉस्मेटिक्स जैसे पैक्ड सामान, घरेलू उपकरणों, ज़मीन, मक़ान, दुकान और कारों की बिक्री बहुत ज़्यादा प्रभावित हुई है.

अख़बार ने लिखा है कि इसमें कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए क्योंकि देश में उपभोक्ता तीन चौथाई भुगतान नगद पैसों के जरिए ही करते हैं.

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption नर्सरी स्कूल में दाखिले के लिए कोटा खत्म करने के लिए लोगों का विरोध प्रदर्शन(फ़ाइल फ़ोटो)

दिल्ली के माता-पिता अपने बच्चों का दाखिला नर्सरी में कराना चाहते हैं उनके लिए हिन्दुस्तान टाइम्स में ख़बर है. इसके मुताबिक़ स्कूल में दाखिले के लिए आने वाले सत्र में बच्चे के घर और स्कूल के बीच की दूरी ही एकमात्र मानदंड हो सकता है.

अरविंद केजरीवाल सरकार की स्कूल दाखिला नीति पर सिफारिशें अगर लागू हो जाती हैं तो सरकारी ज़मीन पर बने दिल्ली के कुछ नामी स्कूलों को ये नियम मानने पड़ेंगे. दिल्ली के स्कूलों में दाखिले की नीति 15 दिसंबर तक घोषित हो जाएगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे