हड़ताल पर जा सकते हैं बैंक कर्मचारी

इमेज कॉपीरइट EPA

रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने दावा किया था कि रिज़र्व बैंक इस बात का ध्यान रख रहा है कि नोट प्रिटिंग प्रेस अपनी पूरी क्षमता के साथ काम करें ताकि नए नोटों की मांग पूरी की जा सके.

ये बात उन्होंने बीते हफ़्ते पीटीआई को दिए एक इंटरव्यू में कही थी. उन्होंने दावा किया था कि बैंक और एटीएम के बाहर क़तार कम होती जा रही है.

नोटबंदी- 'डिजिटल भुगतान से घटेगी ग़रीबी'

नोटबंदी: सात समस्याएं जो अब तक कायम हैं

नोटबंदी: एटीएम कतारों के आसपास की कहानियां

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption उर्जित पटेल

लेकिन ऑल इंडिया बैंक एप्लाइज एसोसिएशन (एआईबीईए) के महासचिव सीएच वेंकटचलम इन दावों पर सवाल उठा रहे हैं.

उनका दावा है कि रिज़र्व बैंक से नोटों की सप्लाई बहुत कम है और डिमांड बहुत ज्यादा है. सिर्फ बीस से 25 फ़ीसदी मांग की पूर्ति हो पा रही है. रिज़र्व बैंक और सरकार का यह दावा ग़लत है कि उनके पास कैश की कमी नहीं है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने बीबीसी को बताया कि ये नोटबंदी नहीं, देश बदली का फ़ैसला है.

कैश की कमी के कारण ग्राहकों और कर्मचारियों को काफ़ी दिक्क़त हो रही है. कई जगह बैंक ग्राहकों और कर्मचारियों के बीच झगड़े की ख़बर भी आ रही है.

वेंकटचलम का कहना है कि नोटों की सप्लाई की पारदर्शिता भी सवालों के घेरे में है. स्थिति नहीं सुधरी तो बैंक यूनियन दस दिनों के बाद हड़ताल पर जाने का विचार कर सकती है.

इमेज कॉपीरइट AFP

वो कहते हैं कि चूंकि ज्यादातर एटीएम अभी तक चालू भी नहीं हो पाए हैं इसलिए लोगों को बहुत तकलीफ़ हो रही है. बैंक का काम लोगों को कैश देना है जो वो नहीं दे पा रहे हैं. यह बहुत शर्म की बात है.

उन्होंने कहा है कि रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया, सरकार और आईबीए को लिखे उनके ख़तों पर दूसरी तरफ़ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

(सीएच वेंकटचलम से बीबीसी संवाददाता वात्सल्य राय की बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे