नहीं रहीं तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता

तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता का निधन हो गया है.

चेन्नई के अपोलो अस्पताल ने प्रेस नोट जारी कर बताया है कि सोमवार रात 11.30 बजे उनका निधन हो गया है.

68 साल की जयललिता 22 सितंबर से अपोलो अस्पताल में भर्ती थीं, रविवार को उन्हें दिल का दौरा पड़ने के बाद आईसीयू में भर्ती कराया गया था.

तभी से अपोलो अस्पताल के बाहर उनके समर्थकों का जमावड़ा लगा हुआ है और चेन्नई में सुरक्षा कड़ी की गई है.

जनता में बेहद लोकप्रिय नेता रहीं जयललिता ने दक्षिण भारतीय फ़िल्मों में अभिनय भी किया था.

जानकारों के अनुसार शुरू से ही जयललिता एक कामयाब वकील बनना चाहती थीं. लेकिन, क़िस्मत ने उन्हें पहले फ़िल्मों और फिर राजनीति में धकेल दिया.

दोनों ही क्षेत्रों में उनका सफ़र आसान नहीं रहा था. जयललिता 140 फ़िल्में करने, 8 बार विधानसभा का चुनाव लड़ने और एक बार राज्यसभा के लिए मनोनीत होने के अलावा चार बार तमिलनाडु की मुख्यमंत्री बनी थी.

पढ़ें- जयललिता तमिलनाडु की अम्मा क्यों हैं?

पढ़ें- दिल के दौरे के बाद जयललिता फिर आईसीयू में

इमेज कॉपीरइट AP

जयललिता की जीवनी 'अम्मा जर्नी फ़्राम मूवी स्टार टु पॉलिटिकल क्वीन' लिखने वाली वासंती कहती हैं, "उनकी ताक़त थी कि वो बहुत मज़बूत नेता रही हैं. उनका पार्टी पर इतना मज़बूत नियंत्रण है कि लोग उनके सामने काँपा करते हैं. वो अपने मंत्रियों से मिलना भी पसंद नहीं करती हैं. लोगों में मुफ़्त चीज़े बांटने की नीति ने भी उन्हें बहुत लोकप्रिय बनाया... मुफ़्त ग्राइंडर, मुफ़्त मिक्सी, बीस किलो चावल देने पर अर्थशास्त्रियों ने बहुत नाक भौं सिकोड़ी, लेकिन इसने महिलाओं के जीवनस्तर को उठा दिया... और लोगों के बीच उनकी जगह बनती चली गई."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे