जयललिता के जीवन की अनदेखी तस्वीरें

Image caption 1948 में कर्नाटक के मैसूर में पैदा हुई जयललिता के दादा मैसूर के राजा के डॉक्टर थे
Image caption जयललिता का परिवार 1952 में मैसूर से मद्रास आ गया था जहाँ उन्होंने अपनी पढ़ाई पूरी की
Image caption जयललिता ने सिर्फ़ 12 साल की उम्र में भरतनाट्यम का स्टेज शो किया जिसके बाद सुपरस्टार शिवाजी गनेशन ने कहा था कि वे एक दिन ज़रूर स्टार बनेंगी
Image caption जयललिता की पहली फ़िल्म श्रीसैला संतम कन्नड़ में बनी थी जिसके बाद उन्हें 140 से अधिक फिल्मों में काम किया
Image caption जयललिता इस तस्वीर में के. कामराज के साथ दिखाई पड़ रही हैं.
Image caption जयललिता इस तस्वीर में अन्नादुरई के साथ दिख रही हैं.
Image caption अयंगार ब्राह्मण परिवार में पैदा होने वाली जयललिता, ब्राह्मण विरोधी दलित चेतना आंदोलन के अग्रदूत रामास्वामी पेरियार के साथ
Image caption जयललिता, उनकी माँ संध्या और कुछ अन्य अभिनेत्रियाँ तत्कालीन राष्ट्रपति राधाकृष्णन के साथ
Image caption जयललिता इस तस्वीर में लाल बहादुर शास्त्री के साथ नज़र आ रही हैं.
Image caption जयललिता इसमें एमजीआर और दूसरे कलाकारों के साथ नज़र आ रही हैं.
Image caption जयललिता राजनीतिक करियर के शुरुआती दिनों में
Image caption जयललिता इसमें बच्चों के साथ खाना खाते हुए नज़र आ रही हैं.
Image caption एमजी रामचंद्रन ने अपनी पत्नी जानकी रामचंद्रन को नहीं बल्कि जयललिता को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया
Image caption फ़िल्म समारोह के उदघाटन के दौरान राष्ट्रपति नीलम संजीवा रेड्डी के साथ
Image caption जयललिता ने अपना पहला राजनीतिक भाषण एआईडीएमके के सम्मेलन में दिया था जिसमें उन्होंने नारी शक्ति का आह्वान किया था
Image caption जयललिता 1991 में तमिलनाडु की पहली महिला और सबसे युवा मुख्यमंत्री बनीं
Image caption एमजीआर के निधन के बाद जयललिता ने पार्टी की पूरी कमान संभाल ली
Image caption जयललिता की दिलचस्पी हमेशा लोकलुभावन और कल्याणकारी योजनाओं में रही, उन्होंने मदर टेरेसा की संस्था मिशनरीज़ ऑफ चैरिटी के साथ सहयोग किया
Image caption राजीव गांधी की हत्या के बाद जयललिता ने 1991 का विधानसभा चुनाव कांग्रेस के साथ गठबंधन करके लड़ा था
Image caption भ्रष्टाचार और आय से अधिक संपत्ति के मामले में उन्हें जेल भी जाना पड़ा था
Image caption एमजीआर की विशाल प्रतिमा के अनावरण के समय की तस्वीर, उन्होंने उनकी एमजीआर की विरासत को हमेशा जिंदा रखने की कोशिश की

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे