प्रेस रिव्यू- नोटों की परेशानी से रूसी दूतावास नाराज़

इमेज कॉपीरइट AFP

जयललिता की अंतिम विदाई के अलावा अखबारों में नोटबंदी के बाद पैस की किल्लत से परेशान दिल्ली स्थित रूसी दूतावास की ख़बर की ख़ासी चर्चा है.

टेलीग्राफ़ अख़बार ने छापा है कि भारत में रूसी दूतावास ने विदेश मंत्रालय को चिट्ठी लिखकर इस पर विरोध जताया है. ख़बर में कहा गया है कि पैसे निकालने की सीमा इतनी कम है कि इससे एक अच्छे डिनर तक का पैसा नहीं दिया जा सकता है.

इससे पहले पाकिस्तानी दूतावास ने भी नोटबंदी से हो रही दिक्कत के लिए विदेश मंत्रालय को चिट्ठी लिखी थी.

इमेज कॉपीरइट AP

दिल्ली से छपने वाले अख़बारों में जयललिता की अंतिम यात्रा सभी अखबारों की पहली ख़बर है. एक नज़र कुछ सुर्खियों पर- इंडियन एक्सप्रेस , नवभारत टाइम्स ने हेडलाइल दी है- अम्मा को नम आंखों से विदाई, टाइम्स ऑफ इंडिया.

उधर जनसत्ता ने सुर्खी लगाई है- यादों में बसीं जया, नई दुनिया ने लिखा है- जया के लिए उमड़ा जन और दैनिक जागरण की हेडलाइल है- जया के लिए जनसैलाब.

हिंदुस्तान टाइम्स की खास रिपोर्ट कुडनकुलम में परमाणु संयंत्र के से जुड़ी है. इन प्रदर्शनों के दौरान 6,000 लोगों पर देशद्रोह के आरोप लगे थे.

अब इनमें से कई लोग नया जीवन शुरु करने के लिए विदेश जाना चाह रहे हैं, लेकिन इनमें से कई लोगों को एयरपोर्ट से वापस जाना पड़ रहा है.

इमेज कॉपीरइट EPA

टाइम्स ऑफ इंडिया ने ममता बनर्जी से जुड़ी एक खबर को प्रमुखता से छापा है.

ममता बनर्जी ने विमानों की लैंडिंग को लेकर हाल में कड़ी शिकायत की थी जिसके बाद नागरिक उड्डयन निदेशालय ने तीन एयरलाइंस के छह पायलटों को निलंबित कर दिया है.

ये पायलट उन विमानों के हैं जिन्होंने लैंडिंग के दौरान ईंधन कम होने की शिकायत की थी.

टाइम्स ऑफ इंडिया में ही नोटबंदी से जुड़ी एक और ख़बर है कि बंगाल में बीजेपी के नेता मनीष शर्मा को दस लाख रूपए के नए नोटों के साथ हिरासत में लिया गया है.

मनीष शर्मा पूर्व में बीजेपी की टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़ चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे