नोटबंदी का एक माह और आंकड़ों का सच

इमेज कॉपीरइट Alamy

भारत में मौजूद कुल दो लाख से अधिक एटीएम मशीनों में से क़रीब 90 प्रतिशत में नए नोटों के हिसाब से बदलाव कर दिए गए हैं.

नोटबंदी से जुड़ी कहानियां यहां पढ़ें

इमेज कॉपीरइट Kirtish Bhatt

लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि उन मशीनों में पर्याप्त नक़दी मौजूद है.

इमेज कॉपीरइट Kirtish Bhatt

500 और 1000 के जितने नोट सर्कुलेशन से हट गए हैं वो कुल नक़दी अर्थव्यवस्था का 86 फ़ीसद है.

इमेज कॉपीरइट Kirtish Bhatt

अभी लगभग तीन हफ़्तों का समय बाक़ी है और अंदाज़ा है कि 14 लाख करोड़ रूपये से ऊपर बैंकों में जमा हो जाएगें.

इमेज कॉपीरइट Kirtish Bhatt

सरकारी नोट प्रिंटिंग प्रेस रात-दिन काम कर रहे हैं लेकिन जितना नक़दी हटाई गई है उसे नए नोटों में वापस लाने में महीनों का समय लगेगा.

इमेज कॉपीरइट Kirtish Bhatt

जो 19 अरब नए करेंसी नोट बाज़ार में लाए गए हैं उनकी क़ीमत, बाज़ार से हटाई गई मुद्रा का एक-तिहाई भर है.

इमेज कॉपीरइट Kirtish Bhatt

1.2 हज़ार करोड़ रूपये का आंकड़ा सीएमआईई के आकलन के मुताबिक़, जिसमें आर्थिक लेन-देन और रोज़गार को हुए नुक़सान के अलावा नए नोटों की छपाई की लागत भी शामिल है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे