नोटबंदी पर ग़ुस्सा शांत करने के लिए मोदी के 10 तीर

इमेज कॉपीरइट Twitter
Image caption प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

500 और 1000 रुपये के नोटों को रद्द किए एक महीने का वक़्त हो गया है. हालांकि सरकार दावा कर रही है कि सबकुछ ठीक-ठाक है लेकिन लोगों के ग़ुस्से की ख़बरें भी कुछ जगहों से सुनने में आ रही हैं.

जनता को अपनी बात समझाने और इस फ़ैसले का क़ायल करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने कई तरीक़े अपनाए:

1) पीएम गोवा में रोए

13 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गोवा में नोटबंदी का समर्थन करते हुए भावुक हो गए थे. मोदी ने आंसू रोकते हुए कहा, 'मैंने घर-परिवार सबकुछ देश के लिए छोड़ा है.'

पढ़े नोटबंदी से जुड़ी दूसरी कहानियां

2)लोग नींद की गोलियां ख़रीद रहे हैं

मोदी ने कहा कि नोटबंदी के कारण करोड़ों लोग चैन की नींद ले रहे हैं लेकिन लाखों की नींद भी उड़ा दी है. ईमानदार को कोई तकलीफ़ नहीं है. अब भिखारी भी 1000 रुपये का नोट नहीं ले रहा है. लोग मुझे पहचान लें. मैं सबका कच्चा चिट्ठा खोल दूंगा.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption गुस्सा शांत करने के लिए मोदी ने लोगों को समझाया

3) सांसदों से कहा कि लोगों को बताएं

प्रधानमंत्री ने अपने सांसदों से कहा कि वे अपने-अपने क्षेत्र में जाकर लोगों को बताएं कि नोटबंदी क्यों महत्वपूर्ण है और इससे उन्हें क्या फ़ायदा होगा.

4) खु़द को फ़क़ीर बताया

मैं लड़ाई लड़ रहा हूं आपके लिए. ज़्यादा से ज़्यादा वो मेरा क्या करेंगे? अरे मैं तो फ़क़ीर आदमी हूं झोला लेकर चल पड़ूंगा!

5) नोटबंदी के दौरान अपने नेताओं का बैंक डिटेल मांगा

मोदी ने लोगों को भरोसे में लेने के लिए नोटबंदी के बाद अपने मंत्रियों के ख़र्चे का ब्योरा मांगा. मोदी के निर्देश पर उनके मंत्रियों ने इस दौरान के लेन देन का अपना ब्योरा दिया.

इमेज कॉपीरइट Twitter

6) जनधन खातों से पैसे नहीं निकालने की अपील की

मोदी ने मुरादाबाद में एक रैली को संबोधित करते हुए लोगों से अपील की कि उनके खातों में जिन्होंने पैसे डाले हैं उसे निकालें नहीं. पीएम ने कहा कि जनधन खातों में आए पैसे के लिए वह दिमाग़ लगा रहे हैं.

7) 50 दिनों में सबकुछ ठीक हो जाएगा

नोटबंदी के कारण लोगों को हो रही समस्या के बीच मोदी ने दावा किया कि 50 दिनों में यह समस्या ठीक हो जाएगी.

इमेज कॉपीरइट Twitter

8) मुझे लोग ज़िंदा नहीं छोड़ेंगे, बर्बाद कर देंगे

मैं जानता हूं कि मैंने कैसी-कैसी ताक़तों से जंग छेड़ी है. मैं जानता हूं कि कैसे-कैसे लोग मेरे ख़िलाफ़ होंगे. मैं 70 साल की उनकी लूट को रोक रहा हूं. वो मुझे ज़िंदा नहीं छोड़ेंगे. मुझे बर्बाद करके रहेंगे. भाइयों-बहनों मुझे केवल 50 दिन मदद करें.

9) मैंने पहले बताया नहीं इसलिए लोग विरोध कर रहे हैं

दिल्ली के विज्ञान भवन में प्रधानमंत्री ने कहा कि विपक्ष इसलिए विरोध नहीं कर रहा है कि लोगों को समस्या हो रही है उन्हें समस्या इसलिए हो रही है कि मैंने पहले बताया नहीं.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption एटीएम की लाइन में लगे लोग

10) यह यज्ञ है

आठ नवंबर को मोदी ने नोटबंदी के समर्थन में कई ट्वीट किए. उन्हें ट्वीट कर कहा कि नोटबंदी का साथ देने वालों को सलाम. मोदी ने इस क़दम को यज्ञ बताया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे