हम ममता को बाल पकड़कर निकाल सकते थे: बंगाल भाजपा अध्यक्ष

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी नोटबंदी का जमकर विरोध कर रही हैं.

पश्चिम बंगाल भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा है कि दिल्ली में जब ममता बनर्जी प्रदर्शन कर रहीं थी तब अगर उनकी पार्टी चाहती तो उन्हें बाल खींचकर वहां से निकाल सकती थी.

जब बीबीसी ने उनसे पूछा कि क्या उन्हें इस बयान पर कोई अफ़सोस है तो उन्होंने कहा कि उन्होंने पूरी ज़िम्मेदारी से, समझबूझकर बयान दिया है.

उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी प्रधानमंत्री के बारे में जो बोलती आई हैं, उसके संदर्भ में बयान दिया गया है, जिसका उन्हें कोई अफ़सोस नहीं है.

उनका आरोप था कि पश्चिम बंगाल में भाजपा के नेताओं को निशाना बनाया जा रहा है, जब वो सभा करते हैं तो उन्हें मारा जाता है और कहा जाता कि इनकी जनसभा न होने दो.

पढ़ें- 'बंगाल में तख़्तापलट क्यों करेंगे?' ममता पर जनरल मलिक

पढ़ें- सबसे बड़ा नेता न रहे, तो क्या करेंगी छोटी पार्टियां?

दिलीप घोष ने कहा, "ममता बनर्जी जब दिल्ली में नाटक कर रहीं थीं तब हम उन्हें बाल पकड़कर वहां से निकाल सकते थे लेकिन हमने ऐसा नहीं किया क्योंकि हम लोकतंत्र में विश्वास रखते हैं. लेकिन टीएमसी लोकतंत्र में विश्वास नहीं रखती है. हमने ये भाषा ममता बनर्जी से ही सीखी है. ये भाषा उन्हीं की संस्कृति है और हमने उनसे ही ये सीखा है."

इमेज कॉपीरइट @DilipGhoshBJP
Image caption दिलीप घोष ने बीबीसी से कहा कि उन्होंने सोच समझकर ये बयान दिया है.

जब उनसे पूछा गया कि भाजपा राजनीति में शालीनता की बात करती है, ऐसे में क्या इस तरह की भाषा स्वीकार्य है, तो उन्होंने कहा, "जिन परिस्थितियों में हम काम कर रहे हैं और कोई हमें ललकारे और हम उसे मान लें तो इसे सज्जनता नहीं कायरता कहा जाएगा."

उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी की क्रिया की प्रतिक्रिया में ये बयान दिया गया है.

दिलीप घोष ने कहा, "पिछले एक महीने में ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री मोदी, सेना और राज्यपाल के बारे में जिस तरह की अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल किया है उससे मैं आहत हुआ हूँ. मुझे लगता है कि उसका उत्तर देना मेरी ज़िम्मेदारी है."

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया, "पश्चिम बंगाल भाजपा के अध्यक्ष ने सार्वजनिक तौर पर स्वीकार किया कि दिल्ली पुलिस भाजपा की है."

पढ़ें- 'ममता बनना चाहती थीं केजरीवाल, बन गईं राहुल'

इमेज कॉपीरइट PTI

वहीं तृणमूल कांग्रेस ने एक बयान जारी कर आरोप लगाया है कि भाजपा ममता बनर्जी को धमकियां दे रही है. बयान में कहा गया है कि भाजपा ममता बनर्जी से नीतियों , सुशासन और नोटबंदी पर उनके स्टैंड का मुक़ाबला नहीं कर पाई है और बीजेपी विपक्ष की आवाज़ को ख़ामोश कर देना चाहती है.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नोटबंदी का खासा विरोध किया है और इस सिलसिले में उन्होंने दिल्ली में रैलियां भी की थीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे