वो मौके, जब राहुल गांधी लोकसभा में बोलकर 'भूकंप' लाए

कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने इसी साल 9 दिसंबर को कहा था, ''सरकार बहस से भाग रही है. अगर मुझे बोलने देंगे तो आप देखेंगे, भूकंप आ जाएगा.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जानिए इस साल के वो मौके, जब राहुल गांधी लोकसभा में सरकार को घेरकर 'भूकंप' लाए.

मैं बोलूंगा तो भूकंप आ जाएगा: राहुल गांधी

इमेज कॉपीरइट KIRTISH BHATT

1. फेयर एंड लवली योजना

तारीख 2 मार्च 2016. बजट सत्र. राहुल गांधी लोकसभा में बोले, ''उन्होंने (सरकार) एक नई योजना अनाउंस की. फेयर एंड लवली योजना. इस योजना में हिंदुस्तान का कोई भी चोर अपने कालेधन को सफेद कर सकता है.''

इस भाषण के दौरान विपक्ष विरोध जताता है तो राहुल मुस्कुराते हुए कहते हैं, ''अरे बोलने दो भैया, बोलने दो. मोदी जी की फेयर एंड लवली योजना आई है. काले पैसे को आप गोरा कर सकते हो.''

राहुल ने कहा, ''सरकार ने मेक इन इंडिया का बब्बर शेर तैयार किया. जहां देखो वहीं काले रंग का बब्बर शेर. हम पूछते हैं कि बब्बर शेर तो दिखा दिया, रोजगार कितना दिया.''

इमेज कॉपीरइट AFP

कार्टून: ना भूकंप आएगा ना अच्छे दिन

2. अरहर मोदी

तारीख 28 जुलाई 2016. मॉनसून सत्र. राहुल गांधी लोकसभा में महंगाई के मुद्दे पर बोले, ''मोदी जी आपने यूपी में एक भाषण में कहा था. मुझे प्रधानमंत्री नहीं, चौकीदार बनाओ. अब चौकीदार की नाक के नीचे दाल की चोरी हो रही है. मगर चौकीदार चुप है.''

राहुल ने आगे कहा, ''चुनाव से पहले घर-घर मोदी का नारा चला था, अब गांव-गांव में एक नया नारा चल रहा है. कस्बों में बच्चा-बच्चा कह रहा है अरहर मोदी...अरहर मोदी...अरहर मोदी.''

इसी सत्र के दौरान 20 जुलाई को लोकसभा में राहुल गांधी की आंख झपकाने वाली तस्वीरें मीडिया में देखने को मिली थीं. विपक्ष ने चुटकी लेते हुए कहा था, ''राहुल गांधी सो रहे थे.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे