नरेंद्र मोदी के बाण तो राहुल गांधी के तीर

इमेज कॉपीरइट Reuters

संसद हो या कोई और जगह, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हों या कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, दोनों एक-दूसरे पर प्रहार करने का मौक़ा नहीं छोड़ते. ये ज़रूर है कि पीएम मोदी ज़्यादातर मौक़ों पर राहुल गांधी का नाम लेकर टिप्पणी कम ही करते हैं. लेकिन उनका इशारा राहुल गांधी की ओर ही होता है.

नोटबंदी पर संसद में बोलने को लेकर सरकार और विपक्ष एक-दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं. ताज़ा बयान में राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर आरोप लगाया है कि उनके पास पीएम के पर्सनल करप्शन की जानकारी है. राहुल गांधी और नरेंद्र मोदी की एक-दूसरे पर बयानबाज़ी की एक झलक.

पढ़ें- मेरे पास पीएम के पर्सनल करप्शन की जानकारी है

पढ़ें- राहुल ही नहीं मोदी, उनके मंत्री भी सोते हैं

नरेंद्र मोदी

इमेज कॉपीरइट AP

1. कुछ लोगों की उम्र तो बढ़ती है, समझ नहीं बढ़ती, तो समझने में बड़ी देर हो जाती है. कुछ लोग तो समय बीतने के बाद भी समझ नहीं पाते.

2. आप मेक इन इंडिया का मज़ाक उड़ा रहे हैं. अगर ये सफल नहीं है, तो आपको ये बताना चाहिए कि इसे कैसे सफल बनाया जाए.

3. हीन भावना के कारण संसद को चलने नहीं दिया जा रहा है.

4. विपक्ष के छोटे-छोटे दल के सदस्य भी पढ़कर आते हैं, लेकिन कुछ लोग मनोरंजन करवाते हैं.

5. कोई भी व्यक्ति मुझसे सवाल पूछ सकता है. सवाल पूछने का उनका हक है. लेकिन कुछ हैं, जो जवाबदेह नहीं हैं. न हीं उनसे कोई पूछने की हिम्मत करता है.

राहुल गांधी

इमेज कॉपीरइट AFP

1. मैं यहाँ भारत को आरएसएस से बचाने के लिए हूँ, मैं यहाँ भारत को नरेंद्र मोदी से बचाने के लिए हूँ.

2. प्रधानमंत्री ने छह वर्षों के हमारे काम को बर्बाद कर दिया है. उन्होंने पाकिस्तान को उस पिंजरे से बाहर कर दिया है, जहाँ हमने पाकिस्तान को डाल दिया था.

3. गाँव के लोग अब नया नारा लगा रहे हैं- अरहर मोदी, अरहर मोदी.

4. मोदी जी, जितने खोखले वादे करने हैं करिए.....स्टैंड अप इंडिया, मेक इन इंडिया. पर इस सदन को एक तारीख दे दीजिए, जब बाज़ार में दाम कम हो जाएँगे.

5. पीएम ने काले धन को सफेद करने के लिए फेयर एंड लवली योजना शुरू की है.

6. आपने मेक इन इंडिया का बब्बर शेर तैयार किया. जहाँ देखो बब्बर शेर, टीवी पर देखो बब्बर शेर. मैं पूछता हूँ कि आपने कितने लोगों को रोज़गार दिया. मैं पूछता हूँ आपने कितने लोगों को रोज़गार दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे