मुसलमानों की बात करता हूं तो लोगों के पेट में दर्द क्यों- ओवैसी

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तिहादुल मुसलमीन (एआईएमआईएम) के नेता और सांसद असदउद्दीन ओवैसी ने बीबीसी हिंदी के फ़ेसबुक लाइव में कहा, "मैं आरबीआई की रिपोर्ट, वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट के आधार पर दावे के साथ कह रहा हूँ कि मुसलमानों को जान-बूझकर बैंकिंग सिस्टम से अलग रखा गया है."

उन्होंने पहले भी आरोप लगाया है कि मुसलमान बहुल इलाक़ों में जानबूझकर कैश नहीं पहुँचाया जा रहा.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
ओवैसी का कहना है कि मुसलमान बेहद पिछड़े हुए हैं और उनके इलाक़ों में बैंक भी कम हैं.

ओवैसी के साथ पूरा फ़ेसबुक लाइव का वीडियो यहाँ देखें.

उन्होंने कहा, "मैं जो भी कह रहा हूँ पक्की रिपोर्टों के आधार पर कर रहा हूँ. आप हैदराबाद, औरंगाबाद या पुरानी दिल्ली में जाकर देख लीजिए, वहाँ एटीएम में पैसा है या नहीं.."

पढ़ें- ओवैसी ने महाराष्ट्र में कैसे बनाई पैठ

पढ़ें- कौन हैं ओवैसी?

उन्होंने कहा, "मैं हिंदुस्तान के मुसलमानों की बात कर रहा हूँ तो किसी के पेट में दर्द क्यों होता है, मैं पाकिस्तान की बात तो नहीं कर रहा, आईएस की बात तो नहीं कर रहा...दलित, सिख, मराठा, यादव की बात पर एतराज़ नहीं है...मुसलमान की बात पर एतराज़ क्यों?"

'भैंस दूध न दे, मैं ज़िम्मेदार हूँ?'

जब ओवैसी से कहा गया कि वे परोक्ष रुप से भाजपा की मदद करते हैं क्योंकि उनके बयानों की वजह से भाजपा को ध्रुवीकरण का मौक़ा मिलता है, तो उन्होंने कहा, "भाजपा को उत्तर प्रदेश में 70 सीटें मिलीं, कश्मीर में पीडीपी-बीजेपी सरकार बनी, उसके लिए मैं ज़िम्मेदार हूँ? अगर किसी की भैंस दूध नहीं देगी तो मैं ज़िम्मेदार हूँ? कोई नेता शादी नहीं कर रहा तो मैं ज़िम्मेदार हूँ?"

सियासत ओवैसी ने की, या उनके बयान पर हुई?

अकबरुद्दीन ओवैसी हुए गिरफ्तार

'बादशाह सलामत ने भिखारी बना दिया'

ओवैसी ने कहा, "मैं जिंदगी भर लड़ने वाला हूँ, मैं पद के लिए नहीं लड़ रहा हूँ, मैं सरकार में बैठने की राजनीति नहीं कर रहा हूँ. मैं आज बता रहा हूँ, कभी सरकार में नहीं आऊंगा और मंत्री नहीं बनूँगा."

इमेज कॉपीरइट AFP

उत्तर प्रदेश चुनाव के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, "हम लड़ेंगे, इंशा अल्लाह. पार्टी की नीति बीबीसी पर कैसे बता सकता हूँ".

जब उनसे पूछा गया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में कोई एक अच्छी बात बताइए तो उन्होंने कहा, "मोदी में मुझे कुछ भी अच्छा नहीं लगता."

जब उनसे दोबारा पूछा गया तो उन्होंने कहा, "हिंदुस्तान के बादशाह सलामत ने भिखारी बना दिया.....120 लोग मारे गए अपना पैसा निकालने के लिए, इसमें कोई अच्छी बात दिखती है? उनकी एक ही बात अच्छी लगती है कि वे विदेश खूब घूमते हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे