साइरस मिस्त्री ने टाटा की सभी कंपनियों से इस्तीफ़ा दिया

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption साइरस मिस्त्री

टाटा समूह के चेयरमैन पद से हटाए गए साइरस मिस्त्री ने टाटा स्टील और टाटा मोटर्स समेत टाटा समूह की सभी कंपनियों के बोर्ड से इस्तीफ़ा दे दिया है.

कंपनी के बोर्ड से उन्हें हटाने के लिए बुलाई गई बैठकों से पहले साइरस मिस्त्री ने इस्तीफ़े का एलान किया.

एक वीडियो संदेश में साइरस मिस्त्री ने कहा कि इस्तीफ़े के बावजूद वो टाटा समूह के हितों के लिए लड़ते रहेंगे.

उन्होंने कहा कि एक्स्ट्राऑर्डिनरी जनरल मीटिंग्स के मंच से अलग ये लड़ाई जारी रहेगी.

सायरस मिस्त्री का सफ़र

'रतन टाटा कर रहे थे मेरे काम में दख़लअंदाज़ी'

टाटा संस लिमिटेड ने साइरस के इस्तीफ़े के बाद बयान जारी किया जिसमें कहा गया कि साइरस मिस्त्री जानते थे कि ज़्यादातर शेयर धारक उनके समर्थन में नहीं है इसलिए उन्होंने रणनीति के तहत इस्तीफ़ा दिया है.

इस बयान में कहा गया है कि ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि साइरस मिस्त्री जिस समूह के लिए सम्मान की बात करते हुए उसके बारे में चुने हुए विषयों पर बोलते हैं और आधारहीन, अप्रमाणित और द्वेषपूर्ण आरोप लगाते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption रतन टाटा फ़िलहाल टाटा समूह के अंतरिम चेयरमैन हैं.

चार साल तक टाटा समूह की कमान संभालने के बाद साइरस मिस्त्री को अक्तूबर में चेयरमैन पद से हटा दिया गया था.

टाटा समूह से साइरस मिस्त्री की विदाई के बाद से उनके और समूह के प्रमोटर टाटा संस के बीच सार्वजनिक रूप से लड़ाई जारी है.

रतन टाटा फ़िलहाल टाटा समूह के अंतरिम चेयरमैन हैं.

साइरस मिस्त्री का परिवार टाटा समूह में सबसे बड़ा शेयर धारक भी हैं.

टाटा संस हुआ सायरस मिस्त्री का

आसान नहीं होगा रतन टाटा की राह चलना...

साइरस मिस्त्री ने रतन टाटा पर काम में दखलअंदाज़ी का आरोप लगाया था. टाटा संस ने कहा है कि वो 2006 से टाटा संस के निदेशक रहे हैं और चेयरमैन पद से हटाए जाने के बाद वो अचानक सभी फ़ैसलों को लेकर आरोप लगाने लगे जिसका वो ख़ुद हिस्सा रहे थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे