प्रेस रिव्यू- '200 राजनीतिक पार्टियां सिर्फ़ कागज़ों पर'

इमेज कॉपीरइट eci.nic.in

इंडियन एक्सप्रेस ने चुनाव आयोग के हवाले से छापा है कि 200 राजनीतिक पार्टियां सिर्फ़ कागज़ों पर ही मौजूद हैं.

चुनाव आयोग को शक है कि इनका इस्तेमाल काले धन को सफ़ेद करने के लिए किया जाता है.

जल्द ही चुनाव आयोग सेंट्रल बोर्ड ऑफ़ डायरेक्ट टैक्सेज़ (सीबीडीटी) को इन 200 पार्टियों को डीलिस्ट करने की जानकारी देगी.

चुनाव आयोग इन पार्टियों की सूचि भी सीबीडीटी को देगा. इन पार्टियों ने 2005 से चुनाव में हिस्सा नहीं लिया.

अख़बार ने चुनाव आयोग के सूत्रों के हवाले से लिखा है,'' ये सिर्फ शुरुआत है. इनमें से कई पार्टियां टैक्स नहीं भरती हैं और अगर भरती भी हैं तो हमें नहीं बताती हैं.''

इमेज कॉपीरइट PA

हिंदुस्तान टाइम्स ने लिखा है कि सीबीएसई ने 2018 से दसवीं की बोर्ड परीक्षा को अनिवार्य कर दिया है. इसके अलावा हाई स्कूल तक हिंदी और अंग्रेज़ी भी अनिवार्य रूप से छात्रों को पढ़नी होगी.

लिखित परीक्षा का 80 फ़ीसदी वेटेज होगा तो 20 प्रतिशत आंतरिक आंकलन होगा.

पांच साल पहले आई नीति के तहत दसवीं की बोर्ड परीक्षा को ऑप्शनल यानी वैकल्पिक कर दिया गया था.

सीबीएसई चाहता है कि उसके सभी स्कूलों में तीन भाषाओं का फ़ॉर्मूला लागू किया जाए.

नोटबंदी- समझिए 5000 रुपए वाला नियम है क्या

इमेज कॉपीरइट Reuters

नोटबंदी पर आए आरबीआई के ताज़ा आदेश के बाद टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने ख़बर छापी है कि कई बैंकों की शाखाओं के अधिकारियों ने पांच हज़ार रुपए से ज़्यादा की रकम जमा करने से इनकार कर दिया.

एक बड़े सरकारी बैंक के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि ये निर्देश दिए गए थे कि दो अधिकारियों की मौजूदगी में ही पांच हज़ार रुपए से ज़्यादा की रकम स्वीकार न करें.

इमेज कॉपीरइट PTI

इंडियन एक्सप्रेस ने लिखा है कि नोटबंदी का सबसे पहले समर्थन करने वालों में से एक आंध्र प्रदेश के मुख्‍यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू ने केंद्र सरकार के इस कदम पर चिंता जताई है.

नायडू ने कहा है कि वह इस बात से परेशान हैं कि नोटबंदी के फैसले के बाद पैदा हुई नकदी की किल्‍लत ख़त्‍म होती नहीं दिख रही.

चंद्रबाबू नायडू विमुद्रीकरण के मुद्दे पर केंद्र सरकारी की 13 सदस्यीय समिति के अध्यक्ष हैं और उनकी तेलुगू देसम पार्टी एनडीए की सहयोगी है.

सोमवार को विजयवाड़ा में पार्टी के एक कार्यक्रम में अपनी तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) के विधायकों और सांसदों से उन्‍होंने कहा, "नोटबंदी हमारी मर्जी नहीं थी, फिर भी ये कदम उठाया गया. नोटबंदी के 40 दिन बाद भी, हमारे पूरे प्रयासों के बावजूद, अभी भी कई सारी समस्‍याएं हैं और कोई हल नजर नहीं आ रहा."

नायडू ने कहा , ''नोटबंदी से निपटने के लिए अधिकारी असमर्थ हैं और अब मेरे सिर फोड़ने के बावजूद कोई हल नहीं मिल रहा है.''

गुजरात में 'चायवाले से साढ़े दस करोड़ ज़ब्त'

छत्तीसगढ़: घूसखोरों के ज़ब्त नोटों का क्या करें?

इमेज कॉपीरइट AFP

द पायोनियर ने लिखा है कि आयकर के 677 छापों में 3.185 करोड़ रुपए का काला धन बरामद हुआ है.

आयकर विभाग ने नोटबंदी के बाद नकदी, 428 करोड़ रुपए के ज़ेवर और 86 करोड़ रुपए के नए नोट 19 दिसंबर तक बरामद किए हैं.

सूत्रों के हवाले से अख़बार ने लिखा है कि कर चोरी और हवाला जैसे मामलों में आयकर विभाग ने 3,100 नोटिस जारी किए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे