मोदी गंगा की तरह शुद्ध हैं: रविशंकर प्रसाद

राहुल गांधी इमेज कॉपीरइट Getty Images

कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृह जिले मेहसाणा पहुंचे थे. यहां राहुल ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए मोदी पर चौतरफा हमला बोला. मेहसाणा गुजरात में पटेल आरक्षण आंदोलन का केंद्र रहा है.

राहुल की की तरफ से मोदी पर लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों का जवाब देते हुए केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि वह बोलने से पहले सोचते नहीं हैं. प्रसाद ने कहा कि 'नरेंद्र मोदी गंगा की तरह शुद्ध हैं और उस व्यक्ति पर राहुल गांधी सवाल उठा रहे हैं.'

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

रविशंकर प्रसाद ने कहा, ''यूपीए सरकार में राहुल गांधी मनमोहन सिंह से ज़्यादा ताकतवर थे. उस सरकार में इतने बड़े-बड़े भ्रष्टाचार हुए लेकिन राहुल खामोश रहे. राहुल ने अपने जीजा के भ्रष्टाचार पर कभी नहीं बोला.''

राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी का नाम कुछ उद्योगपतियों की डायरी में लिखा मिला था, जिनसे उन्होंने पैसे भी लिए. राहुल ने दावा किया कि आईटी विभाग के पास इससे संबंधित काग़जात मौजूद हैं. इन्हीं में सहारा ग्रुप के लोगों द्वारा नरेंद्र मोदी को 6 महीने में कुल नौ बार पैसा दिए जाने की बात लिखी पाई गई थी.

इमेज कॉपीरइट Twitter/OfficeofRG

फिलहाल राहुल गांधी के इन आरोपों को उनकी उस चेतावनी से जोड़कर देखा जा रहा है, जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर वे प्रधानमंत्री के ख़िलाफ खुलकर बोले, तो भूकंप आ जाएगा.

इसे भी देखें: मैं बोलूंगा तो भूकंप आ जाएगा: राहुल गांधी

राहुल से पहले नरेंद्र मोदी पर यही आरोप प्रशांत भूषण और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी लगा चुके हैं, जिसपर उच्चतम न्यायालय ने सुनवाई करने से साफ़ मना इनकार कर दिया था और प्रशांत भूषण को फटकार भी लगाई थी.

भाजपा का पलटवार

इन आरोपों के जवाब में भारतीय जनता पार्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और कहा कि राहुल गांधी ने 'गंगा के बराबर पवित्र' नरेंद्र मोदी पर गलत आरोप लगाए हैं. प्रेस कॉन्फ्रेंस में पार्टी प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने कहा,

  • राहुल के आरोप झूठे हैं.
  • हम उनकी परेशानी समझते हैं. वो हारे हैं और निराश हैं. उनके नेतृत्व में उनकी पार्टी हारी है, इसलिए वो निराश हैं.
  • राहुल खुद धोखाधड़ी के मामले में बेल पर हैं और भ्रष्टाचार की बात करते हैं.
  • आगुस्ता मामले को भटकाने के लिए ये आरोप लगाए गए हैं.
  • उनके पास कोई सबूत नहीं. राहुल गांधी को वैसे भी कोई सीरियसली नहीं लेता.

इसे भी पढ़ें: 'राहुल गांधी में बिल्कुल हिम्मत नहीं है'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार