नवीन पटनायक को काले दुपट्टे से डर क्यों?

ओडिशा इमेज कॉपीरइट Subrat Kumar Pati
Image caption दुपट्टा रखती एक महिला

क्या ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक को आजकल महिलाओं के काले रंग के कपड़ों से डर लग रहा है?

पिछले कुछ समय से मुख्यमंत्री की जनसभाओं में काले दुपट्टे पहनकर जाती महिलाओं को रोकने की घटनाएँ हुई हैं. इसके विरोध में अब राज्य में कई जगहों पर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Subrat Kumar Pati
Image caption पुलिस बाहर ही ले रही है दुपट्टा

बरगड़ में छह नवंबर को काले दुपट्टे वाली महिलाओं को जनसभा से निकालने के लिए कहा गया था. पांच दिसंबर को सुंदरगढ़ में भी पुलिस ने मुख्यमंत्री की जनसभा शुरू होने से पहले काले दुपट्टे को छीन लिया था.

पुलिस की इस कार्रवाई के ख़िलाफ़ कांग्रेस और बीजेपी ने विधानसभा में हंगामा भी किया था. प्रदेश सरकार के इस रुख के ख़िलाफ़ कांग्रेस ने सुंदरगढ़ को बंद रखा था. कांग्रेस महिला मोर्चा ने इस मामले की पुलिस में शिकायत भी की थी.

बाद में ख़ुद मुख्यमंत्री ने घटना पर दुःख जताते हुए प्रदेश के पुलिस महानिदेशक को ऐसी घटनाएँ नहीं होने देने का निर्देश दिया.

इमेज कॉपीरइट Subrat Kumar Pati
Image caption जनसभा स्थल के बाहर रखे दुपट्टे

मुख्यमंत्री के निर्देश के बावजूद गुरुवार को एक बार फिर से ऐसा ही वाकया देखने को मिला. प्रदेश में इसे लेकर सियासी सरगर्मी बढ़ गई है.

कांग्रेस नेता और विधायक तारा प्रसाद वाहिनीपति ने कहा कि इस मामले में पटनायक दोहरा मापदंड अपना रहे हैं. उन्होंने कहा कि एक तरफ वह पुलिस की कार्रवाई पर दुःख जता रहे हैं और दूसरी तरफ हर बार इसे अंज़ाम दिया जा रहा है. कांग्रेस ने कहा ऐसा मुख्यमंत्री के इशारे पर ही हो रहा है.

इमेज कॉपीरइट BISWARANJAN MISHRA
Image caption ओडि़शा के सीएम नवीन पटनायक

दूसरी तरफ ओडिशा पुलिस का कहना है कि ऐसा सुरक्षा कारणों से किया जा रहा है.

बीजू जनता दल के प्रवक्ता रवि नारायण नंद ने कहा कि विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है इसलिए वो फ़र्ज़ी आरोपों को गढ़ रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे