विदेश से पैसा नहीं पाएंगे हज़ारों एनजीओ

इमेज कॉपीरइट AFP

गृह मंत्रालय ने 20 हज़ार एनजीओ के विदेश से फंड हासिल करने के लाइसेंस को रद्द कर दिया है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ फॉरेन कॉन्ट्रिब्यूशन रेगुलेशन एक्ट (एफ़सीआरए) के कई प्रावाधनों के उल्लंघन की वजह से सरकार ने इन एनजीओ के एफ़सीआरए लाइसेंस रद्द किए हैं.

यानी अब भारत में 13 हज़ार एनजीओ ही वैध बचे हैं.

इससे पहले सरकार ग्रीनपीस और सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ के एनजीओ सबरंग ट्रस्ट का एफ़सीआरए लाइसेंस रद्द कर चुकी है.

पढ़ें: तीस्ता सीतलवाड़ के एनजीओ का रजिस्ट्रेशन रद्द

नाइक के एनजीओ पर पांच साल की पाबंदी

नौ हज़ार एनजीओ

वो लोग जो पैसों के लिए काम नहीं करते

इमेज कॉपीरइट GREENPEACE INDIA

सरकार के इस फ़ैसले के फ़ौरन बाद सोशल मीडिया पर बहस शुरू हो गई हैं.

जहां कई लोगों ने सरकार के इस फ़ैसले का स्वागत किया और उसे काले धन के ख़िलाफ़ लड़ाई से जोड़ा वहीं कई लोगों ने फ़ैसले की आलोचना भी की और कहा कि सरकार देश के लोकतांत्रिक मूल्यों के ख़िलाफ़ काम कर रही है.

केशव वरन नाम के ट्विटर यूज़र ने लिखा, "काला धन रखने वालों के ख़िलाफ़ सरकार का एक और ज़बरदस्त स्ट्रोक."

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption तीस्ता सीतलवाड़ के एनजीओ का भी एफ़सीआरए लाइसेंस रद्द हो चुका है.

विनायक हेगड़े ने लिखा, "बाक़ी के एनजीओ की गतिविधियों पर भी सरकार को कड़ी निगाह रखनी चाहिए. ताकि वो आगे देश के ख़िलाफ़ काम ना करने पाएं."

बड़का बाबू के ट्विटर हैंडल से लिखा गया, "आज तो बहुत सारे बुद्धिजीवी विलाप करेंगे."

वहीं अमित कुमार का कहना है, "20 हज़ार एनजीओ के लाइसेंस कैंसिल कर दिए गए क्योंकि वो साहब की आरती करने की जगह उनसे सवाल पूछ रहे थे."

मसाला चाय नाम के ट्विटर हैंडल से तंज कसते हुए ट्वीट किया गया, "अचानक एक साथ 20 हज़ार एनजीओ ने क़ानून तोड़ा इसलिए बेचारी सरकार को मजबूरी में उनका लाइसेंस कैंसिल करना पड़ा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)