कलमाडी पद स्वीकार नहीं करेंगे, आईओए को सरकार का नोटिस

इमेज कॉपीरइट AFP

सुरेश कलमाडी और अभय चौटाला को इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन के आजीवन अध्यक्ष बनाए जाने पर खेल मंत्री के मुखर विरोध के बाद, कलमाडी के वकील ने कहा है कि वो कोई पद स्वीकार नहीं करेंगे. उधर अभय चौटाला ने गोयल के विरोध पर हैरानी जताई है.

मंगलवार को भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना कर रहे सुरेश कलमाडी और अभय चौटाला को आईओए में पद दिए जाने पर सोशल मीडिया पर जमकर बवाल हुआ था.

बुधवार को खेल मंत्री विजय गोयल ने कहा है कि इस क़दम के बाद सरकार इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन के साथ किसी भी तरह का संबंध नहीं रखेगी. आईओए को खेल मंत्रालय ने नोटिस भी जारी किया था.

सोशल मीडिया पर छाए रहे कलमाडी, लोगों ने तंज किए

'खेल संघों के नेता ही कर्ताधर्ता, खिलाड़ी सिर्फ़ 1'

खेल मंत्री ने ट्वीट किया- "ऐसा तब तक चलेगा जब तक सुरेश कलमाडी और अभय चौटाला को इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) के अध्यक्ष पद से हटाया नहीं जाता, या फिर वो ख़ुद उससे हट नहीं जाते हैं. खेलों में पारदर्शिता और जवाबदेही सबसे ज़रूरी है."

इमेज कॉपीरइट EPA

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ सुरेश कडमाडी के वकील हितेश जैन ने एक टीवी चैनल से कहा- "सुरेश कलमाडी ने अध्यक्ष पद स्वीकार नहीं करने का फ़ैसला लिया है. उन्हें इस बारे में कोई आइडिया नहीं था कि आईओए इस तरह का कोई फ़ैसला लेने जा रहा है. उन्होंने अपना नाम साफ होने तक किसी भी पद को लेने से मना किया है."

उधर अभय सिंह चौटाला ने कहा है, "मैं खेल मंत्री विजय गोयल की प्रतिक्रिया से हैरान हूं. उन्होंने दावा किया है कि मेरे ख़िलाफ़ आपराधिक और भ्रष्टाचार के मामले हैं. मेरे ख़िलाफ़ जो मामला है वो आपराधिक नहीं है, यह एक राजनीतिक मामला है."

इससे पहले केंद्रीय खेल मंत्री विजय गोयल ने कहा था, ''हम सुरेश कलमाडी और अभय चौटाला को आजीवन अध्यक्ष बनाने से जुड़े आईओए के प्रस्ताव पर हैरान हैं. ये पूरी तरह अस्वीकार्य है, क्योंकि दोनों गंभीर भ्रष्टाचार और आपराधिक मामलों में आरोपों का सामना कर रहे हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे