नोटबंदी पर यूटर्न लेना चाहते है नीतीश: रघुवंश

इमेज कॉपीरइट Photodivision.gov.in

राष्ट्रीय जनता दल के नेता रघुवंश प्रसाद सिंह का कहना है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहले नोटबंदी के समर्थन में थे लेकिन अब वह अपने बयान से पलटना चाहते हैं.

बिहार में बुधवार को राजद ने नोटबंदी के ख़िलाफ़ धरना दिया था, जिसमें राज्य में महागठबंधन में शामिल जद(यू) इसमें शामिल नहीं हुई.

'नोटबंदी के बाद पीएम चुन लें अपना चौराहा'

नोटबंदी के 46वें दिन मोदी ने कहा- 30 दिसंबर के बाद सब ठीक होगा

रघुवंश प्रसाद सिंह का कहना था कि जनता दल (यू) में केवल एक व्यक्ति नोटबंदी के समर्थन में खड़ा है जबकि दिल्ली में शरद यादव नोटबंदी का विरोध कर रहे हैं.

उनका कहना था, ''नीतीश पहले नोटबंदी के पक्ष में बोल गए लेकिन अब उन्हें यू-टर्न लेने में कठिनाई हो रही है. वह कह रहे हैं कि 50 दिनों की समीक्षा करेंगे कि नोटबंदी के बाद लोगों की कितनी तकलीफ़ हुई है उसके बाद आंदोलन में शामिल होंगे. इसलिए मुझे समझ में आता है कि वह समीक्षा करने के बाद नोटबंदी के ख़िलाफ़ आएंगे.''

इमेज कॉपीरइट Manish Shandilya

बुधवार को हुए धरना में राजद अध्यक्ष ने फिर दोहराया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने लिए 'चौराहा' चुन लें.

रघुवंश प्रसाद सिंह का कहना था कि महागठबंधन का नेता होने के नाते नीतीश कुमार को नरेंद्र मोदी या नोटबंदी के समर्थन में नहीं बोलना चाहिए था, मुझे लगता है वह बयान दे गए लेकिन अब पलटी मारना चाहते हैं.

इमेज कॉपीरइट Manish Shandilya

इस बयान का समर्थन करते हुए रघुवंश प्रसाद ने कहा कि प्रधानमंत्री ने स्वंय बयान दिया था कि नोटबंदी के बाद 50 दिन में हालात नहीं सुधरे तो उन्हें जो सज़ा दी जाएगी उसे स्वीकार होगी.

उनका कहना था कि नोटबंदी के ख़िलाफ़ गांधी मैदान में विस्तार रैली की जाएगी और उनका दावा था कि इस रैली में सभी धर्मनिरपेक्ष पार्टियां शामिल होंगी. उनका कहना था कि तृणमूल कांग्रेस की नेता ममता बनर्जी से बातचीत हो चुकी है और इसमें जद(यू) भी शामिल होगी.

(बीबीसी संवाददाता सुशीला सिंह से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे