'जयललिता का शव निकाला जा सकता है?'- हाई कोर्ट

जयललिता इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की मौत पर सवाल

मद्रास हाई कोर्ट ने गुरुवार को तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के निधन से जुड़ी एक याचिका पर पूछा है कि सच जानने के लिए क्या दफ़न किए शव को निकाला जा सकता है?

समाचार एजेंसियों के अनुसार हाई कोर्ट ने इस मामले पर विचार करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने जयललिता की मौत से जुड़े संदेहों पर स्पष्ट रुख नहीं अपनाया.

तमिलनाडु की तत्कालीन मुख्यमंत्री जयललिता का पांच दिसंबर को निधन हो गया था.

ये जनहित याचिका जस्टिस एस वैद्यनाथन और वी प्रतिबन की बेंच के सामने आई थी.

ये पढ़ें-

नज़रें अब शशिकला और उनके परिवार पर

अन्नाद्रमुक में 'अम्मा' की जगह भर पाएंगी शशिकला?

'जयललिता के बाद शशिकला ही हैं...'

जयललिता पर शशिकला का कितना प्रभाव है?

याचिका में मांग की गई थी कि जयललिता की 'रहस्यमयी' मौत की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट के तीन रिटायर्ड जजों का एक आयोग बनाया जाए.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption जया की मौत पर उठ रहे हैं कई सवाल

इस मामले में हाई कोर्ट ने केंद्र और प्रधानमंत्री कार्यालय को नोटिस भेजा है. इसके साथ ही यह नोटिस तमिलनाडु सरकार को भी भेजा गया है.

एआईएडीएमके के प्राथमिक सदस्य पीए स्टालिन ने यह याचिका दाखिल की है. उन्होंने इस याचिका में कलकत्ता हाई कोर्ट के 1999 के निर्देश का हवाला दिया है.

इस आदेश में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत से जुड़े रहस्यों से पर्दा उठाने के लिए सुप्रीम कोर्ट के एक रिटायर्ड जज का आयोग बनाने के मांग की गई थी.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption अपनी पार्टी में किसी देवी की तरह थीं जया

जयललिता के मामले में भी याचिकाकर्ता ने कमिशन ऑफ़ इन्क्वायरी ऐक्ट, 1952 के तहत एक आयोग के गठन की मांग की है.

स्टालिन कोर्ट से यह भी चाहते हैं कि वह राज्य प्रशासन और अपोलो हॉस्पिटल को जयललिता की मौत से जु़ड़े सारे दस्तावेज़ मुहैया कराने का निर्देश दे. हाई कोर्ट की इस बेंच ने नोटिस देने के बाद याचिका को चीफ़ जस्टिस के पास भेज दिया है ताकि इसे उचित बेंच के पास भेजा जा सके.

इस याचिका में पूछा गया है कि जयललिता दो महीने पहले बिल्कुल स्वस्थ थीं, बीमार होने पर उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती किया गया, चार अक्तूबर को अपोलो हॉस्पिटल ने कहा था कि जया की स्थिति लगातार ठीक हो रही है. सरकार की तरफ से भी यही बात दोहराई गई थी.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption जया की मौत से आहत प्रदेश के लोग

इसी याचिका में 10 अक्तूबर को फाइनैंशियल एक्सप्रेस की रिपोर्ट में पार्टी के हवाले से बताया गया कि सीएम बिल्कुल ठीक हैं.

27 अक्तूबर को एआईएडीएमके ने दावा किया कि जयललिता पूरी तरह ठीक होने की राह पर हैं और उनकी अस्पताल से छुट्टी फ़ैसला लिया जाना है.

याचिका के मुताबिक 7 नवंबर को पार्टी ने बताया कि 15 दिनों में जया अपोलो से डिसचार्ज हो सकती हैं और सब कुछ नियंत्रण में है, लेकिन 5 दिसंबर को जयललिता का निधन हो गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे