एसबीआई और आईडीबीआई ने कर्ज़ सस्ता किया

एसबीआई इमेज कॉपीरइट AP
Image caption ब्याज दरों में हुई कटौती

रविवार को भारतीय स्टेट बैंक ने ब्याज दर में 0.90 प्रतिशत की कटौती करने की घोषणा की.

एसबीआई भारत का सबसे बड़ा बैंक है. ब्याज की नई दर तत्काल प्रभाव से लागू हो गई है.

एसबीआई ने अपने बयान में कहा कि बैंक ने एक साल के लिए फंड आधारित कर्ज दर को 8.90 प्रतिशत से 8 प्रतिशत कर दिया है.

बैंक ने कहा है कि जनवरी 2015 से अब तक दरों में दो प्रतिशत की कटौती की जा चुकी है.

पढ़ें- एसबीआई की अरूंधति भट्टाचार्य कैसे पहुँचीं यहाँ तक?

पिछले हफ्ते स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर ने भी ब्याज दरों में 0.3 प्रतिशत की कटौती की थी.

दूसरी तरफ आईडीबीआई ने भी अलग-अलग कर्जों में 0.6 फ़ीसदी की कटौती की है. कहा जा रहा है कि हाल के दिनों में ब्याज दरों में हुई कटौती नोटबंदी के बाद बैंको में जमा हुई भारी नकदी के आधार पर की गई है.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption आने वाले वक्त में और बैंक कर सकते हैं ब्याज दरों में कटौती

सरकार ने पिछले साल आठ नवंबर को 500 और 1000 के पुराने नोटों को अवैध घोषित कर दिया था.

भारतीय रिज़र्व बैंक के एक अनुमान के मुताबिक़ पिछले साल 8 नवंबर को हुई नोटबंदी के बाद 10 दिसंबर तक बैंकों में 12.4 लाख करोड़ रुपये जमा हुए हैं. पुराने नोटों को लोगों ने बचत खाते में जमा किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे