समाजवादी दंगल: आज क्या-क्या हुआ?

अखिलेश यादव इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption विरोध प्रदर्शन करते अखिलेश के समर्थक

पिछले तीन दिनों से समाजवादी पार्टी में तख़्तापलट का खेल चल रहा है. रविवार को रामगोपाल यादव की तरफ से बुलाए गए पार्टी अधिवेशन में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को समाजवादी पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित कर दिया गया.

इसकी प्रतिक्रिया में मुलायम सिंह ने तीसरी बार रामगोपाल यादव को पार्टी से निकालने की घोषणा की.

अब तक के घटनाक्रम पर एक नज़र-

  • मुलायम सिंह ने इस अधिवेशन को पार्टी के संविधान के ख़िलाफ़ बताया है.
  • इसी अधिवेशन में अखिलेश की मौजूदगी में रामगोपाल यादव ने शिवपाल को यूपी प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाने का प्रस्ताव पेश किया और अमर सिंह को बाहर करने की घोषणा की.
  • शिवपाल की जगह नरेश उत्तम को अखिलेश ने यूपी अध्यक्ष बनाया है. मुलायम सिंह ने अखिलेश के करीबी माने जाने वाले किरणमय नंदा और नरेश अग्रवाल को पार्टी से निकाल दिया.
इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अखिलेश यादव
  • पीटीआई के मुताबिक़ मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के समर्थकों ने लखनऊ में पार्टी मुख्यालय को अपने कब्जे में ले लिया है. यहां से शिवपाल यादव की नेमप्लेट उखाड़ दी गई.
  • इन घटनाओं से पता नहीं चल पा रहा है कि समाजवादी पार्टी की कमान अब किसके हाथ में है. दोनों खेमों से अलग-अलग फ़ैसले आ रहे हैं. मुलायम सिंह ने रामगोपाल और अखिलेश की तरफ से बुलाए गए पार्टी अधिवेशन को अवैध करार दिया है.

क़ानूनन समाजवादी पार्टी का मुखिया कौन?

सोशल-'मुलायम और शिवपाल को अपनी मार्किट वैल्यू पता चल गई'

मुलायम ने रामगोपाल को फिर पार्टी से निकाला

अखिलेश सपा के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष: रामगोपाल यादव

  • रविवार के अधिवेशन में हज़ारों समर्थकों और दर्जनों विधायकों की मौजूदगी में अखिलेश को पार्टी की कमान सौंपने का एलान किया गया. इस अधिवेशन में मुलायम सिंह को पार्टी संरक्षक की भूमिका दी गई.
  • अधिवेशन में हुए सारे फ़ैसलों को खारिज करते हुए मुलायम सिंह ने पांच जनवरी को पार्टी का सम्मेलन बुलाया है.
इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption किसके पास रहेगी सपा की कमान?
  • अखिलेश ने कहा कि लोग नेताजी के ख़िलाफ़ साजिश करेंगे तो उनका फर्ज है कि वह इसे बेनकाब करें. उन्होंने कहा कि वह अपने पिता और पार्टी के ख़िलाफ़ साजिश बर्दाश्त नहीं करेंगे.
  • अखिलेश ने कहा कि उन्हें नेताजी ने समाजवादी पार्टी को एक बार फिर से सत्ता में लाने का काम दिया है और इसे पूरा करने में वह कोई कसर बाकी नहीं रखेंगे. उत्तर प्रदेश देश की सबसे ज़्यादा आबादी वाला राज्य है और यहां इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं.
  • अखिलेश ने कहा कि यदि समाजवादी पार्टी फिर से सत्ता में वापसी करती है तो सबसे ज़्यादा उनके पिता को खुशी होगी.
इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव

पिछले तीन दिनों में समाजवादी पार्टी में अप्रत्याशित नाटकीय घटनाक्रम हुए हैं. शुक्रवार को मुलायम सिंह ने अपने बेटे अखिलेश और चचेरे भाई रामगोपाल यादव को पार्टी से निकाला था और शनिवार को निष्कासन रद्द कर दिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे