समझ नहीं आ रहा सपा का 'असली नेता' कौन?

अखिलेश यादव इमेज कॉपीरइट Getty Images

कहते हैं कि राजनीति में एक हफ्ता एक लंबा समय होता है.

बीते दो दिनों में समाजवादी पार्टी का जो घटनाक्रम रहा है, उसे देखते हुए समझ नहीं आ रहा कि सपा का 'नेता' कौन है?

रविवार सुबह 'समाजवादी पार्टी अधिवेशन' कर रामगोपाल ने जो ऐलान किया, उसके हिसाब से दो दिन पहले तक मुलायम सिंह यादव पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे.

अब उनके बेटे अखिलेश यादव को यह पद सौंपा गया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption रविवार को लखनऊ में हुए बाग़ी अधिवेशन में अखिलेश को समाजवादी पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित किया गया.

शनिवार शाम यह नहीं समझ आ रहा था कि अखिलेश का संकट में आ चुका मुख्यमंत्री पद कैसे बचेगा.

लेकिन आज वो सत्ता पर और भी मज़बूत स्थिति में नज़र आ रहे हैं. कल को यह सब भी पलट सकता है.

लेकिन सियासत में कुछ चीज़ें कभी नहीं बदलतीं.

मुग़लों के दौर में बाप को सत्ता से हटाने के लिए बेटे न केवल बग़ावत पर उतर आते थे, बल्कि ज़रूरत पड़ने पर राजधानी पर चढ़ाई भी कर देते थे.

जहांगीर ने अक़बर से बग़ावत की. जहांगीर से शाहजहां ने विद्रोह किया और शाहजहां से औरंगज़ेब ने. समय के पहियों को और पीछे ले जाएं तो रोमन साम्राज्य में भी सत्ता के लिए संघर्ष होता रहा.

इमेज कॉपीरइट Alamy

इन दिनों उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी में जारी पारिवारिक घमासान भी मुग़लों की याद दिलाता है. पार्टी में बाप से बेटे की बग़ावत, पार्टी के अंदर साज़िश और एक दूसरे के खिलाफ़ षड्‍यंत्र से मुग़ल साम्राज्य की बू आती है.

शुक्रवार को 'नेता जी' कहे जाने वाले पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने पार्टी से बग़ावत करने के इलज़ाम में अपने बेटे अखिलेश यादव को छह सालों के लिए पार्टी से निकालने का फैसला किया, लेकिन अगले ही दिन उन्होंने अपना फैसला वापस ले लिया.

इमेज कॉपीरइट Nitin Shrivastav

आज यानी रविवार को उनकी जगह पर पार्टी के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश बनाए गए, जिसे मुलायम सिंह ने गैरकानूनी करार दिया है. साथ ही कहा है कि इस लेकर वो 5 जनवरी को 'अपना' अधिवेशन करेंगे.

हालांकि रामगोपाल यादव और अखिलेश के जिस विशेष अधिवेशन को रविवार को लखनऊ में आयोजित किया गया, उसे असंवैधानिक घोषित करते हुए मुलायम सिंह ने इस सम्मेलन में शामिल होने वाले लोगों के ख़िलाफ कड़ी कार्रवाई करने की चेतावनी भी दी थी.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
सपा संकट: लखनऊ के लोगों की राय

फिर भी इस सम्मेलन में करीब 5000 कार्यकर्ता शामिल हुए.

इस सम्मेलन में मुलायम को पार्टी का रहनुमा बताते हुए उनके ख़ास सहयोगी शिवपाल यादव का राज्य अध्यक्ष पद छीन लिया गया और उनके दिल के करीब बताए जाने वाले अमर सिंह को पार्टी से निकाल दिया गया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

तो क्या ये उत्तराधिकार की लड़ाई है या फिर पुरानी पीढ़ी बनाम नई पीढ़ी की आपसी कशमकश, या फिर दोनों?

पार्टी पर नज़र रखने वाले कई विशेषज्ञ ये कहते हैं कि मुलायम सिंह सियासत के शिखर पर जितना ऊंचा जा सकते थे गए. अब वो और ऊपर नहीं जा सकते.

दूसरी तरफ बेटे के बारे में वो कहते हैं कि अब दौर है अखिलेश यादव का, जिनके बारे में कहा जाता है कि नई पीढ़ी में उनकी लोकप्रियता काफी ज्यादा है.

कुछ तो यहां तक कहने को तैयार हैं कि मुलायम सिंह भी यही चाहते हैं कि पार्टी की बागडोर अखिलेश ही संभालें. वो अपने छोटे भाई शिवपाल यादव के क़रीब ज़रूर हैं लेकिन अगर चुनाव बेटे और भाई के बीच किसी एक का करना हो, तो वो अंत में बेटे को ही चुनेंगे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कुछ विशेषज्ञ तो यह भी कहते हैं कि बाप-बेटे का झगड़ा केवल एक ड्रामा है.

समाजवादी पार्टी में जारी उठा-पटक पर नज़र रखने वालों को यक़ीन है कि अंदरूनी विवाद जल्द ख़त्म होने वाला नहीं है. लेकिन पार्टी के पास समय नहीं है.

राज्य में विधानसभा चुनाव होने में अब कुछ ही हफ्ते बाक़ी हैं. अगले कुछ दिनों में इस जंग का अंत पार्टी के लिए बेहद ज़रूरी होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमेंऔर ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार