पेरिस में झलका झारखंड के गाँवों की महिलाओं का हुनर

इमेज कॉपीरइट NIRAJ SINHA

ठेठ गंवई, दुबली-पतली काया की पुतली गंझू को पढ़ना-लिखना नहीं आता. इन्हें देख कर कोई यकीन भी नहीं कर सकता कि मिट्टी की दीवारों पर उनका हुनर बोलता है और ये हुनर है कोहबर तथा सोहराई.

पुतली को इसका गुमान है कि 'पापा' ने इसे चमकाने में सालों का वक़्त लगाया है, मीलों की दूरियां नापी हैं. अब सभी लोग बेहद खुश हैं कि आदिवासी महिलाओं का हुनर बड़े फ़लक के साथ पेरिस में जा चमका है.

एक गांव जहां हर कोई है पेंटर

भोपाल में हुआ कायाकल्प

देखिए आदिवासी कलाकारों के हुनर...

इमेज कॉपीरइट Niraj Sinha
Image caption हजारीबाग के बुलू इमाम को आदिवासी महिलाएं पापा कहकर बुलाती हैं.

पुतली अकेली नहीं. रुकमनी, बेला, रूदन, दयामंती, पार्वती समेत गांवों की बहुत सारी महिलाएं हज़ारीबाग के बुज़ुर्ग बुलू इमाम को पापा के नाम से जानती-पुकारती हैं, जो तीन दशकों से ज्यादा वक्त से इस कला को मुकाम देने की कोशिशो में जुटे हैं.

पर्यावरण कार्यकर्ता इमाम, ट्राइबल विमेन आर्टिस्ट कोऑपरेटिव के निदेशक तथा इंडियन नेशनल ट्रस्ट फ़ॉर आर्ट एंड कल्चरल हेरिटेज हज़ारीबाग चैप्टर के संयोजक भी हैं. उन्होंने वहाँ एक संग्रहालय भी बनाया है.

एक संग्रहालय आदिवासियों के नाम

लोक जीवन को दिखाती पिथौरा चित्रकला

भज्जू श्याम के चित्रों की दुनिया

इमेज कॉपीरइट BULU IMAM FACEBOOK

हाल ही में पेरिस की एक आर्ट गैलरी में मशहूर फोटोग्राफर डैडी वॉनशावन ने हज़ारीबाग में खींची इन्हीं तस्वीरों की प्रदर्शनी लगाई थी.

बुलू इमाम बताते हैं कि इन कलाओं को कई दफ़ा देश-विदेश के छायाकारों ने कैमरे में कैद किए हैं, सुदूर गांवों की महिलाओं ने महानगरों-विदेशों में हुनर की नुमाइश भी की हैं, पर वॉनशावन ने पहली दफ़ा बिल्कुल अलग और ख़ूबसूरत अंदाज़ में इसे पेश किया है, जिस पर पूरी दुनिया की नज़रें हैं.

चंदा जुटा फ़िल्म बनाने में जुटे आदिवासी

'माड़-भात, जंगली साग ही सही, पर नमक चाहिए ना'

'मैडम जी बाबा ने नाम लिखना सीख लिया...'

इमेज कॉपीरइट NIRAJ SINHA

वे बताने लगे कि, "गहराइयों के साथ खींची गई ये तस्वीरें त्रिआयामी आभास के साथ लंबे-चौड़े (सोलह गुना सात फीट) आकार में पेश की गई, जो लोगों को मिट्टी के घरों में मौजूदगी का अहसास कराती रहीं."

कोहबर तथा सोहराई झारखंड की जनजातीय कला है, हालांकि दूसरे समुदायों की महिलाएं भी इस हुनर की मुरीद हैं. उत्तरी छोटानागपुर ख़ासकर हज़ारीबाग के दूरदराज़ के इलाक़ों में यह परंपरा सालों पुरानी है. इन कलाओं के जरिए वंश तथा फसल वृद्धि का चित्रण होता है.

वो गांव जहां बेटियां ही पहचान हैं!

मिलिए 'मर्दाना काम' करने वाली महिलाओं से

इमेज कॉपीरइट NIRAJ SINHA

लोक कला-संस्कृति पर पैनी नजर रखने वाले वरिष्ठ पत्रकार शंभुनाथ चौधरी बताते हैं कि झारखंड के समाज में शादी-ब्याह के मौके पर कोहबर तथा दीपावली से पहले यानी फसल कटाई पर सोहराय कला की परंपरा सदियों पुरानी है, जिसे बुलू इमाम ने एक पहचान दिलाई है.

इस हुनर के ज़रिए ग्रामीण महिलाओं में रोज़गार के अवसर बढ़ें- इसके लिए सरकारी प्रयास बेहद जरूरी हैं. इन कलाओं में पशु-पक्षी प्रेम, डोली पर जाती दुल्हन, राजा-रानी, फसलों की बुवाई कटाई समेत कई आकृतियां दीवारों पर उकेरी जाती हैं.

इमेज कॉपीरइट NIRAJ SINHA

दुल्हन के कमरे में कलाकृतियां बड़े आकर्षक ढंग से उकेरी जाती रही हैं. तब गांवों में इस हुनर को जानने वाली इक्के-दुक्के महिलाओं की बड़ी पूछ होती थी.

हज़ारीबाग के सुदूर जोराकाठ की रूदन देवी ने एक हादसे में अपना दाहिना हाथ गंवा दिया है. लेकिन इससे उनके हौसले कम नहीं पड़े. बाईं हाथ से उनकी कलाकारी देखते बनती है. इसी हुनर के ज़रिए मुट्ठी में चंद पैसे आने लगे हैं जिससे घर का ख़र्च निकलता है.

इमेज कॉपीरइट NIRAJ SINHA

वे कहती हैं कि ज़िंदगी की दुश्वारियां परेशान करती हैं तो मन को तसल्ली भी देती हैं कि इस हुनर ने उन्हें मुंबई-दिल्ली तक पहुंचाया है. वे चाहती हैं कि सरकार की तरफ़ से उन्हें नियमित तौर पर काम मिलता रहे.

बुलू इमाम के मुताबिक इस कला को हड़प्पा संस्कृति के समकालीन माना गया है. बड़कागांव की घाटियों में उन्होंने गुफाओं में पत्थरों पर भी इन आकृतियों को पाया है.

इमेज कॉपीरइट NIRAJ SINHA

सालों पहले इमाम ने इस कला पर पढ़ना-लिखना शुरू किया और साल 1990 में छह महिलाओं को लेकर एक संगठन बनाया फिर कपड़े, कागजों के साथ दीवारों पर उनकी मेहनत को मांजा. और अब वो वक्त आया है जब ढाई से तीन सौ महिलाएं सीधे तौर पर सरकारी-ग़ैर सरकारी स्तरों पर इस काम से जुड़ गई हैं.

वे बताने लगे कि वॉनशावन चार सालों के दौरान चार बार हजारीबाग के दौरे पर आईं. अपने संग्रहालय के पास एक कच्चे घर की दीवारों पर आकृतियां दिखाते हुए कहते हैं पेरिस की प्रदर्शनी में ये भी शामिल है.

इमेज कॉपीरइट NIRAJ SINHA

हमने पुतली गंझू से कुछ यादें साझा करने को कहा तो वो गंवई लहजे में कहती है, "थैलिया में रंग- रोगन और कंघिया रइख के कै दफ़ा हवाई जहाज पर उड़ले हियो" (मैंने थैली में रंग-रोगन लेकर कई दफा हवाई जहाज से यात्रा की है).

वो सोहराय के गीत भी सुनाती हैं. पुतली बताती हैं पापा ( बुलु इमाम) ने उनलोगों को देहरी से निकाला, वरना वे जंगली ही रह जातीं.

इमेज कॉपीरइट BULU IMAM FACEBOOK

बुलू इमाम के बेटे जस्टिन इमाम बताते हैं कि भित्ति चित्रों की कंघी से कटाई देखते बनती हैं. तब कला की बारीकियों को समझना बड़ा कठिन होता है. ग्रामीण महिलाओं तथा नई पीढ़ी की जनजातीय लड़कियों को इस कला की ओर वे प्रेरित करते रहे हैं.

वे कहते हैं कि अब वे लोग विदेशी कला के साथ इस जनजातीय कला को जोड़कर फ्यूज़न आर्ट पर काम कर रहे हैं, ताकि रोज़गार के अवसर बढ़ें और युवा पीढ़ी भी हुनर का मर्म समझ सकें.

इमेज कॉपीरइट BULU IMAM FACEBOOK

खराटी गांव की रूकमनी देवी इस कला में पारंगत हैं. वे फूली नहीं समाती कि मोदी जी ने इस कला की तारीफ़ की है. गौरतलब है कि हज़ारीबाग दौरे के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां की दीवारों पर इन कला को देख मुरीद हुए थे.

इसके बाद अपने 'मन की बात' में चर्चा भी की थी कि किस तरीके से गांवों की आदिवासी महिलाओं ने दीवारों को सजाया-संवारा है.

रुकमनी कहती हैं, "हम ककहरा भी नहीं जानते पर हमरा नाम और मोबाइल नंबर कई शहरों की दीवारों पर उकेरी गई आकृतियों के नीचे जरूर मिल जाएगा. उन्होंने अपनी तीन बहुओं को भी इस कला में निपुण कर दिया है और वे अब इसके ज़रिए कमाने लगी हैं."

इमेज कॉपीरइट JUSTIN IMAM

हज़ारीबाग की रहने वाली रिसर्च एडिटर जया राय बताती हैं कि इस कला की ख़ासियत यह है कि पूरे दीवार पर एक बार में ही चित्र बनाया जाता है तथा प्राकृतिक तथा खनिज संपदाओं से प्राप्त रंगों का इस्तेमाल होता है.

ज़ाहिर है इन कलाओं को सहेजने और पेरिस तक पहुंचाने में इमाम के पूरे परिवार ने बड़े जतन किए हैं. उन्हें अफ़सोस है कि झारखंड में कला को लेकर कोई अकादमी नहीं है.

हज़ारीबाग के तत्कालीन उपायुक्त मुकेश कुमार ने इस कला के ज़रिए सरकारी भवनों की चहारदीवारियों को सजाने में खासी दिलचस्पी दिखाई थी.

इमेज कॉपीरइट JUSTIN IMAM

अब मोदी की सराहना के बाद झारखंड की राजधानी रांची में भी सरकार यह काम करवा रही है. इसके ज़रिए ग्रामीण महिलाओं को रोजगार के अवसर मुहैया होने लगे हैं.

भेलवारा गांव की हुनरमंद पार्वती देवी कहती हैं कि गांवों की लड़कियां इस बात पर ज़ोर देती हैं कि इस परंपरा के ज़रिए रोज़गार मिले, वरना मिट्टी-रंग घिसने से क्या फायदे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे