बेंगलुरू छेड़छाड़ मामले में चार गिरफ़्तार

बेंगलुरु छेड़छाड़ इमेज कॉपीरइट BANGALORE MIRROR
Image caption लोगों पर लाठीचार्ज करती पुलिस

बेंगलुरु के पुलिस कमिश्नर प्रवीण सूद ने कहा है कि 31 दिसंबर की रात महिलाओं के साथ छेड़छाड़ के आरोप में चार लोगों को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

पुलिस का मानना है कि इसमें छह संदिग्ध शामिल थे. बाकी दो लोगों की पहचान की जा चुकी है और उन्हें जल्द ही गिरफ़्तार कर लिया जाएगा.

इससे पहले बीबीसी संवाददाता योगिता लिमये से हुई बातचीत में सूद ने बड़े पैमाने पर छेड़छाड़ की घटना को सिरे से खारिज कर दिया था.

उन्होंने कहा था कि मीडिया में जिसे व्यापक पैमाने पर यौन हमले के सबूत के रूप में दिखाया जा रहा है, वह दरअसल हुड़दंगियों पर पुलिस का लाठीचार्ज है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption 31 दिसंबर की रात की एक तस्वीर

सूद ने थोड़ी देर पहले कहा है कि गिरफ़्तार लोगों में रेस्तरां के दो डेलीवरी ब्वॉयज़, एक हेल्पर और एक ड्राइवर हैं.

उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि किसी ने इस मामले में शिकायत दर्ज़ नहीं कराई है. पुलिस ने ख़ुद घटना का संज्ञान लेकर मामला दर्ज किया और छानबीन शुरू की.

उन्होंने कहा कि इससे लोगों में यह संकेत जाना चाहिए कि पुलिस उनकी मदद के लिए है. लोगों में पुलिस के प्रति भरोसा बढना चाहिए.

सूद ने कहा कि हमले का मुख्य अभियुक्त अयप्पा है. पुलिस छेड़छाड़ की शिकार हुई महिला के संपर्क में है.

इमेज कॉपीरइट BANGALORE MIRROR
Image caption 31 दिसंबर की रात की तस्वीरों के बाद हंगामा हुआ था

छेड़छाड़ को लेकर एक सीसीटीवी फुटेज सामने आया है. इसमें साफ दिख रहा है कि मोटरसाइकल सवार दो युवक एक लड़की के साथ छेड़छाड़ कर रहे हैं. यौन हमले के बाद ये दोनों युवक लड़की को वहीं गिरा कर मोटरसाइकल से फ़रार हो जाते हैं.

'छेड़छाड़ पर मंत्री बोले, ऐसा होता है'

'फुटेज में छेड़छाड़ करनेवालों की पहचान की कोशिश'

तीन दिन बाद बेंगलुरू पुलिस को मिला 'विश्वसनीय सबूत'

फेसबुक लाइव पर देखिए बेंगलुरू की घटना पर लोगों की प्रतिक्रिया

इमेज कॉपीरइट Praveen Sood
Image caption बेंगलुरु पुलिस कमिश्नर प्रवीण सूद

सूद ने कहा,"एक नागरिक ने सीसीटीवी फुटेज मुहैया कराया था. उसके घर के सामने यह छेड़छाड़ हुई थी. हमने इसे गंभीरता से लिया. इस फुटेज से साफ़ पता चल रहा है कि यौन हमला हुआ है."

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
स्कूटर पर सवार दो युवकों ने एक युवती को रोका, छेड़खानी की और फ़रार हो गए.

उन्होंने कहा कि पुलिस ने रिकॉर्ड देखने के बाद लोकेशन का पता लगाया और शिकायत दर्ज़ करने का इंतज़ार किए बग़ैर अपने स्तर से ही कार्रवाई शुरू कर दी थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे