ओम पुरी के इन 6 बयानों पर हुआ था हंगामा

ओमपुरी इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption ओमपुरी

आक्रोश, अर्द्धसत्य और आरोहण जैसी सार्थक फ़िल्मों में दमदार अभिनय से अपनी पहचान बनाने वाले ओमपुरी का 66 साल की उम्र में निधन हो गया. ओमपुरी के साथ जीवन के आख़िरी वक्त में कई विवाद भी जुड़े. इन विवादों के कारण वह कई बार असहज भी हुए. हम आपको बता रहे हैं ऐसे ही चर्चित 6 बयान-

  • एक टीवी बहस में ओम पुरी ने सरहद पर भारतीय जवानों के मारे जाने पर कहा था, ''उन्हें आर्मी में भर्ती होने के लिए किसने कहा था? उन्हें किसने कहा था कि हथियार उठाओ?'' इस बयान के बाद ओमपुरी के ख़िलाफ़ केस दर्ज किया गया था. बाद में इस मामले में उन्होंने माफी मांगते हुए कहा था, ''मैंने जो कहा उसके लिए काफी शर्मिंदा हूं. मैं इसके लिए सजा का भागीदार हूं. मुझे माफ नहीं किया जाना चाहिए. मैं उड़ी हमले में मारे गए भारतीय सैनिकों के परिवारों से माफी मांगता हूं.''

ओमपुरी के 'दुबले भाई' और 'लेनिन जूनियर'

अमिताभ ख़ुद को कॉन्ट्रवर्सी से दूर रखते हैं: ओमपुरी

भारत-पाक में 95 फ़ीसदी लोग सेक्यूलर- ओम पुरी

'अमिताभ काम करना कम कर दें, तो मेरा फ़ायदा होगा'

ओमपुरी के लिए पाकिस्तान में उमड़ता प्यार

  • रामलीला मैदान में अन्ना हजारे के मंच से ओमपुरी ने नेताओं पर तीखा हमला बोला था. उन्होंने हज़ारों लोगों की भीड़ के सामने कहा था, ''जब आईएस और आईपीएस ऑफिसर गंवार नेताओं को सलाम करते हैं तो मुझे शर्म आती है. ये अनपढ़ हैं, इनका क्या बैकग्राउंड है? आधे से ज़्यादा सांसद गंवार हैं.'' इस बयान के बाद जब विवाद बढ़ा तो ओमपुरी ने माफी मांग ली. उन्होंने कहा, ''मैं संसद और संविधान की इज्जत करता हूं. मुझे भारतीय होने पर गर्व है.''
  • आमिर ख़ान ने कथित रूप से भारत में बढ़ती असहिष्णुता पर कहा था कि उनकी पत्नी ने एक दिन देश छोड़ने का जिक्र किया था. इस पर ओमपुरी ने कहा था, ''वह हैरान हैं कि आमिर ख़ान और उनकी पत्नी इस तरह से सोचते हैं. असहिष्णुता पर आमिर ख़ान का बयान बर्दाश्त करने लायक नहीं है. आमिर ने बिल्कुल ग़ैरजिम्मेदाराना बयान दिया है. आप अपने समुदाय के लोगों को उकसा रहे हैं कि भैया, या तो तैयार हो जाओ, लड़ो या मुल्क छोड़कर जाओ.''
  • भारत में गोहत्या पर प्रतिबंध लगाने को लेकर उठे विवाद के बीच ओमपुरी ने कहा था, ''जिस देश में बीफ़ का निर्यात कर डॉलर कमाया जा रहा है वहां गोहत्या प्रतिबंधित करने की बात एक पाखंडपूर्ण है.''
  • ओमपुरी ने कहा था कि नक्सली फाइटर हैं न कि आतंकवादी. उन्होंने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा था, ''ये आतंकवादी नहीं हैं क्योंकि ये ग़ैरजिम्मेदाराना काम नहीं करते हैं. नक्सली अपने हक़ों के लिए लड़ रहे हैं. ये आम आदमी को परेशान नहीं करते हैं.''
  • ओमपुरी का मोदी पर बयान भी काफी चर्चित हुआ था. उन्होंने कहा था, ''अभी देखिए हमारे पास कोई च्वाइस नहीं है, सिवाय मोदीजी की गोदी में बैठने के बाकी गोदियां हमने देख ली हैं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे