पीएम मोदी पर इमाम के 'फ़तवे' से ख़फ़ा भाजपा

इमेज कॉपीरइट Reuters

कोलकाता की टीपू सुल्तान मस्जिद के शाही इमाम सैयद मोहम्मद नूरुर्रहमान बरकती ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर एक विवादित 'फ़तवा' जारी किया है.

सोशल मीडिया और कई अख़बारों की वेबसाइट पर प्रसारित एक वीडियो में सैयद मोहम्मद नूरुर्रहमान बरकती प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में कथित तौर पर आपत्तिजनक फ़तवा जारी करते दिख रहे हैं जिसमें उन्होंने 'बेहद अभद्र भाषा' का इस्तेमाल किया है जिसे यहां प्रकाशित नहीं किया जा रहा है.

इमाम इसमें ये भी कह रहे हैं कि नोटबंदी के नाम पर नरेंद्र मोदी ने देश को बेवकूफ़ बनाया है और लोग अब उन्हें प्रधानमंत्री नहीं देखना चाहते हैं.

उन्होंने कहा कि वो चाहते हैं कि ममता बनर्जी देश की प्रधानमंत्री बने.

पश्चिम बंगाल भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोष ने बीबीसी संवाददाता दिलनवाज़ पाशा से कहा, "मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के क़रीबी लोग प्रदेश के माहौल को सांप्रदायिक कर रहे हैं. टीएमसी की भाषा इमाम के मुंह से बुलवाई जा रही है."

उन्होंने कहा, "प्रधानमंत्री के बारे में दिए गए इस बयान से समाज में अव्यवस्था फैल सकती है. हमारी पार्टी भी इसका विरोध करेगी."

पढ़ें- हम ममता को बाल पकड़कर निकाल सकते थे: बंगाल भाजपा अध्यक्ष

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption भाजपा का कहना है कि इमम ममता बनर्जी की पार्टी की भाषा बोल रहे हैं.

दिलीप घोष ने कहा, "हम स्थानीय थाने में मामला दर्ज करवा रहे हैं और पार्टी इसे लेकर हाई कोर्ट या सुप्रीम कोर्ट में भी मामला दायर करेगी."

भाजपा ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से फ़तवा देने वाले इमाम को गिरफ़्तार करवाने की मांग की है.

मुस्लिम विद्वान और पूर्व सांसद महमूद मदनी से जब इस कथित फ़तवे के बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, "इस्लाम में इस तरह के फ़तवों की गुंज़ाइश नहीं है."

उन्होंने कहा, "कोलकाता के इमाम इस्लाम का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं, उन्होंने ध्यान खींचने के लिए ऐसा विवादित बयान दिया है. हम इसका समर्थन नहीं करते हैं."

इमाम बरकती इससे पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बारे में दिए गए पश्चिम बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष के विवादित बयान पर भी फ़तवा दे चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे