इज़्ज़त के नाम पर हत्या, मिली मौत की सज़ा

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

पहली बार दक्षिण भारत के तमिलनाडु (संभवत: भारत में) में इज़्ज़त नाम पर लड़की की हत्या के मामले में दो लोगों को मौत की सज़ा सुनाई गई है.

मई 2016 को हुई एक घटना में तिरूनेलवेली ज़िले के वन्नारपेट की एक महिला कल्पना की उसी के घर पर हत्या कर दी गई थी. हत्या के वक़्त कल्पना गर्भवती थीं.

कल्पना अनुसूचित समुदाय से थीं और कावेरी नाम की एक लड़की के माता-पिता पर उसकी हत्या का आरोप लगाया गया था. कावेरी ने कल्पना के भाई विश्वनाथन से शादी की थी और वो दोनों शादी के बाद भाग गए थे.

कावेरी के माता-पिता ने 13 मई 2016 को कल्पना की हत्या कर दी थी.

Image caption कल्पना

कावेरी के माता-पिता शंकरनारायणन और सेल्लाम्मल पर भारतीय दंड संहिता और सिविल अधिकार संरक्षण अधिनियम के अंतर्गत मामला दर्ज किया गया था.

तिरुनेलवेली की ज़िला अदालत ने इस मामले में कावेरी के माता-पिता को मौत की सज़ा सुनाई. सिविल अधिकार संरक्षण अधिनियम के अंतर्गत उन्हें उम्रक़ैद और 11 साल की सज़ा भी सुनाई गई है.

दलित अधिकारों के लिए काम कर रहे कार्यकर्ताओं का कहना है कि पहली बार राज्य में इस तरह के एक मामले में मौत की सज़ा दी गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे