और अब प्रकाश सिंह बादल पर चला जूता

इमेज कॉपीरइट Pti

पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल पर बुधवार को लंबी ज़िले में संगत दर्शन के दौरान एक व्यक्ति ने जूता फेंका. शिरोमणि अकाली दल के पूर्व अध्यक्ष वर्ष 2007 से राज्य के मुख्यमंत्री हैं.

प्रारंभिक रिपोर्टों के अनुसार ये जूता बादल को लगा है और पुलिस ने इस व्यक्ति को पकड़ लिया है.

भारत में इससे पहले भी नेताओं पर जूते फेंके जाने के कई मामले सामने आ चुके हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

साल 2016 में आम आदमी सेना के महासचिव वेद प्रकाश ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर एक प्रेस कॉफ्रेंस के दौरान जूता फेंका था.

ये घटना उस वक्त हुई जब अरविंद केजरीवाल राजधानी दिल्ली में ऑड इवन कार्यक्रम की शुरुवात करने के लिए प्रेस कॉफ्रेंस करने वाले थे.

वेद प्रकाश का आरोप था कि दिल्ली में इस मुहिम की शुरुवात से पहले सीएनजी के नकली स्टीकर बांटे जा रहे थे.

चिदंबरम पर भी फेंका गया जूता

इमेज कॉपीरइट AFP

वर्ष 2009 में तत्कालीन गृह मंत्री पी चिदंबरम पर एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान जरनैल सिंह ने जूता फेंका था.

वर्ष 1984 में हुए सिख विरोधी दंगों के बारे में सवाल-जवाब करते समय एक सिख पत्रकार उत्तेजित हो गए थे और उसने अपना जूता चिदंबरम पर फ़ेंका. जूता चिदंबरम को लगा नहीं बल्कि बगल से गुज़र गया.

इमेज कॉपीरइट Pti

वर्ष 2009 में मध्यप्रदेश के कटनी में भारतीय जनता पार्टी के नेता लाल कृष्ण आडवाणी पर चप्पल फेंकने का मामला सामने आया था. ये चप्पल पार्टी के ही नेता पावस अग्रवाल ने उन पर चलाई थी.

पुलिस के अनुसार पावस अग्रवाल ज़िले में पार्टी के अध्यक्ष पद से हटाए जाने से नाराज़ थे और उन्होंने इसके लिए 'पार्टी में गुटबाज़ी का आरोप लगाया था.'

इमेज कॉपीरइट AFP

अहमदाबाद में वर्ष 2009 में एक चुनावी रैली के दौरान तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर जूते से हमला किया गया था. हालांकि जूता मनमोहन सिंह से कुछ दूर जाकर गिरा था. मनमोहन ने इस मामले में इस युवक पर आरोप न दर्ज करने को कहा था.

इमेज कॉपीरइट PTI

जम्मू और कश्मीर में तत्कालीन मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला पर वर्ष 2010 में एक पुलिस अधिकारी ने जूता फेंका था.

मुख्यमंत्री 64वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर संबोधित करने ही वाले थे जब ये घटना घटी. इस अधिकारी की पहचान एएसआई अब्दुल अहद जन की गई थी जिन्होंने बाद में काला झंडा भी दिखाया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)