मकर संक्रांति, पोंगल और बिहू के रंग

इमेज कॉपीरइट AP

मकर संक्रांति के दिन तड़के सवेरे उठ कर गंगासागर के पास सूर्य की पूजा करती एक महिला.

हिंदू धर्म को मानने वालों के अनुसार मकर संक्रांति के दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है और इस दिन सर्दी ख़त्म हो कर गर्मी के दिनों की शुरूआत होती है. इस दिन लोग सूर्य की पूजा करते हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

गंगासागर में सैंकड़ों हिंदू श्रद्धालु सुबह-सवेरे गंगा के तट पर पहुंचे और पूजा-आराधना की.

मकर संक्रांति को मलमास यानी हिंदू पंचाग के अनुसार शुभ काम के लिए अशुभ माने जाने वाले महीनों का अंत माना जाता है.

इमेज कॉपीरइट AFP

गंगासागर में पूजा करने पहुंचे आदिवासी समुदाय की महिलाएं.

हिंदू धर्म के अनुसार महाभारत में भीष्म पितामह अपने प्राण त्यागने के लिए शरशैय्या पर तब तक पड़े रहे थे जब तक सूर्य उत्तरायण नहीं हुए थे.

इमेज कॉपीरइट AFP

गंगा में डुबकी लगाने पहुंचे एक साधु अपने पालतू बंदर को भी साथ ले आए. इस तस्वीर में वो अपने बंदर के साथ अपनी सिगरेट शेयर कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इस त्योहार को उत्तर भारत के कई इलाकों में मकर या सकट के नाम से भी जाना जाता है. जहां उत्तर प्रदेश, पश्चिम बिहार में इसे खिचड़ी पर्व कहते हैं, मिथिला में इसे तिल संक्रांत कहा जाता है.

इमेज कॉपीरइट AP

असम में इस दिन को भोगाली बिहू के नाम से मनाया जाता है. ये फसल की कटाई का त्योहार है.

घासफूस से मेजी बनाई जाती है और रात को आग की पूजा कर मेजी में आग लगाई जाती है.

इमेज कॉपीरइट EPA

असम में मछुआरा समुदाय के लोगों ने बिहू मनाया. इस समुदाय में लोग पूरी रात नाचते-गाते हैं और साथ मिल कर खाना खाते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

इस दौरान मछली पकड़ने के खेल का भी आयोजन होता है जिसमें लोग मछलियां पकड़ते हैं. इस तस्वीर में पनबारी के गोरोइमारी झील में एक लड़के ने ये मछली पकड़ी है.

इमेज कॉपीरइट AFP

मकर संक्रांति के दिन को दक्षिण भारत के तमिलनाडु में पोंगल के तौर पर मनाया जाता है. लोग चावल से पोंगल नाम का एक व्यंजन बनाते हैं और सूर्य की पूजा करते हैं.

श्रीलंका में भी पोंगल का त्योहार मनाया जाता है और मंदिरों में ख़ास पूजा-अर्चना का आयोजन किया जाता है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे