'रामलीला में अब राम की जगह मोदीजी नज़र आएंगे'

इमेज कॉपीरइट AP

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने नोटबंदी और कई अन्य मुद्दों पर सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा. उन्होंने मोदी पर आरोप लगाया कि उनकी कथनी और करनी में अंतर है.

उत्तराखंड के ऋषिकेश में एक रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि नोटबंदी की इस घोषणा के साथ, "मोदी जी ने सिर्फ़ एक मिनट में साठ-सत्तर साल पुरानी संस्था की और हिंदुस्तान की आर्थिक आत्मा की हत्या कर दी."

इमेज कॉपीरइट PIB

हाल में खादी के कैलैंडर और डायरी में मोदी की चरखे के साथ छपी तस्वीर के बारे में राहुल गांधी ने कहा कि मोदी जी खादी के नए ब्रांड बन गए हैं.

'गांधी का खादी, मोदी का खादी नहीं है'

किंगफिशर नहीं, ट्रेंड कर रहा खादी कैलेंडर

उन्होंने कहा, "देखिए कैसा समय आ गया है. जिस व्यक्ति ने यहां झंडा फहराने के लिए सीने में तीन गोलियां खाईं, उन्हें मोदीजी ने परे कर दिया."

इसी मुद्दे पर उन्होंने आगे कहा, "आज सब कुछ नरेंद्र मोदी जी करते हैं. अगले साल रामलीला होगी, वहां आपको राम नहीं दिखाई देंगे, आपको वहां मोदी दिखाई देंगे. एक आदेश आएगा कि रामलीला में जब राम आएं तो मोदी का मास्क पहन कर आएं."

इमेज कॉपीरइट AFP

चुटकी लेते हुए राहुल गांधी बोले, "मोदी चाहते हैं कि सिर्फ़ एक व्यक्ति का राज हो, बाकी सब लोग मिट जाएं, सबकी आवाज़ शांत हो जाए, लोग बस मोदी के मन की बात सुनें."

उन्होंने मोदी के लाखों के सूट और चरखे के साथ उनकी तस्वीर पर कहा, "चरखा का मतलब है हिंदुस्तान के ग़रीब लोगों का ख़ून पसीना, कमज़ोरों को आर्थिक प्रगति से जोड़ना. एक तरफ मोदी जी चरखे के साथ फोटो लेते हैं और दूसरी तरफ वो 50 उद्योगपतियों के लिए दिनभर काम करते हैं."

तो मोदी का 15 लाख का सूट गंदा हो जाएगा: राहुल

'चाय वाले के पास 10 लाख का सूट कहां से आया'

राहुल गांधी ने आगे कहा, "मोजी जी में कॉन्ट्राडिक्शन्स (अंतर्विरोध) हैं."

इमेज कॉपीरइट AP

उन्होंने कहा कि वो योगा की बात करते हैं और इंडिया गेट पर हज़ारों लोगों के साथ मिल कर योगा करते हैं, "लेकिन सामने की 10 लाइनों में जो योगा सिखाने वाले बैठे हैं और उनमें एक का पद्मासन ही नहीं लगता और ये दिखाई पड़ता है."

उन्होंने आरोप लगाया कि एक तरफ मोदी जी कहते हैं कि नोटबंदी नकली नोट और काले धन के ख़िलाफ़ किया, लेकिन उनका 15 लाख के सूट वाला चित्र कोई और ही बात करता है.

गौरतलब है कि खादी ग्रामोद्योग के कैलेंडर और डायरी में महात्मा गांधी की जगह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर छपने को लेकर पिछले दिनों विवाद छिड़ गया था.

उसके बाद हरियाणा सरकार के एक मंत्री अनिल विज ने अंबाला में कहा, ''प्रधानमंत्री मोदी खादी के लिए गांधी से बड़े ब्रान्ड एंबेसडर हैं.''

हालांकि बीजेपी ने अनिल विज के बयान से खुद को अलग कर लिया था और कहा था कि ये उनका निजी बयान है. आलोचनाओं के बाद विज ने अपना बयान वापस ले लिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे