अखिलेश की 'साइकिल' सवारी का मतलब

इमेज कॉपीरइट AFP

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को भारत के चुनाव आयोग ने आगामी विधान सभा चुनावों के लिए साइकिल का चुनाव चिह्न दे दिया है.

​बीबीसी संवाददाता नितिन श्रीवास्तव ने इस पर वरिष्ठ पत्रकार रामदत्त त्रिपाठी और अंबिकानंद सहाय का आकलन जाना है.

सपा और साइकिल दोनों हुए अखिलेश के

मिलिए समाजवादी पार्टी के 'चाणक्य' से

अंबिकानंद सहाय

चुनाव आयोग से साइकिल मिलना अखिलेश के लिए थोड़ा सांकेतिक ही है क्योंकि पार्टी का समर्थन तो इन्हीं के पास था.

इसमें कोई दो राय नहीं कि पार्टी के भीतर ज़्यादातर लोग ये मानते रहे हैं कि उत्तर प्रदेश की राजनीति में समाजवादी पार्टी का चेहरा अखिलेश ही हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

ख़ास बात ये भी है कि अखिलेश पहले से इस बात के लिए भी तैयार थे कि अगर उन्हें साइकिल निशान नहीं मिला तो क्या होगा.

मिसाल के तौर पर उनके और उनके ख़ास सलाहकार चाचा रामगोपाल यादव के पास दूसरे चुनाव चिह्नों पर काम करने का प्लान तैयार था.

तकरीबन 90% समाजवादी पार्टी वैसे भी अखिलेश के साथ शिफ़्ट कर गई है.

अगर मुलायम को सिर्फ़ चुनाव चिह्न मिल भी जाता तो एक भाई और एक मित्र के अलावा उनके साथ समाजवादी पार्टी के लोग भी कहाँ दिख रहे थे.

जो पार्टी के भीतर दिखाई पड़ रहा था उस पर चुनाव आयोग जैसी संवैधानिक संस्था की भी मुहर लग चुकी है.

पार्टी संस्थापक मुलायम सिंह को अब ये मान लेना चाहिए कि पार्टी उनके हाथ से ख़िसक चुकी है, इसलिए वे या तो वक़्त के साथ समझौता कर लें या फिर हाशिए पर आने का ख़तरा मोल लें.

रामदत्त त्रिपाठी

चुनाव आयोग ने तकनीकि कारणों पर ज़्यादा न जाकर इस बात पर ग़ौर किया है कि समाजवादी पार्टी के ज़्यादातर विधायक और सांसद अखिलेश यादव के समर्थन में खुल कर सामने आए थे.

इमेज कॉपीरइट AFP

आगामी चुनाव में इस फ़ैसले का लाभ अखिलेश यादव को हो सकता है और निश्चित तौर पर अब अखिलेश के लिए कांग्रेस के साथ अपने गठबंधन को औपचारिक शक्ल देना आसान हो गया है.

जिस तरह से मुलायम ने सोमवार को पार्टी कार्यालय में जाकर अखिलेश के खिलाफ कुछ बयान दिए, उससे सुलह भी अभी करीब नहीं लग रही है.

खबरें रही हैं कि मुलायम सिंह यादव एक दूसरी पार्टी, लोक दल, से बातचीत करते रहे हैं कि उसके अपने चुनाव निशान (हल जोतता हुआ किसान) के साथ मिल कर चुनावी मैदान में कूदेंगे.

उधर चुनाव आयोग के सोमवार के फैसले के पहले से ही अखिलेश यादव गुट ने एक विदेशी प्रचार कंपनी के ज़रिए मतदान केंद्रों तक पूरी व्यवस्था कर रखी थी कि अगर फ़ैसला विपरीत गया तो एक नए निशान का प्रचार-प्रसार गाँव-गाँव तक करवा देंगे.

हालांकि अखिलेश यादव की पिछली पांच वर्ष की सरकार में जिस तरह से साइकिल का प्रचार किया गया ( लैपटॉप से लेकर स्कूल बैगों के वितरण के दौरान), उसे देखते हुए अखिलेश के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में एक नए निशान तक पहुंचा पाना उतना आसान भी नहीं रहता.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे