उर्जित पटेल से संसदीय समिति ने पूछे कड़े सवाल

इमेज कॉपीरइट EPA

भारतीय रिज़र्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल वित्त मामलों पर संसद की स्थाई समिति के सामने पेश हुए हैं.

उन्होंने कमिटी को बताया कि नोटबंदी के बाद से अब तक 9.20 लाख करोड़ रुपए मूल्य के नोट बाज़ार में आ गए हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से ये जानकारी दी है.

इस पेशी के दौरान गवर्नर पटेल को कड़े सवालों का भी सामना करना पड़ा है.

खबरों के अनुसार उर्जित पटेल ने समिति को बताया कि नोटबंदी के मामले में सरकार और आरबीआई के बीच बातचीत एक साल पहले ही शुरू हो गई थी.

नोटबंदी: 'रिज़र्व बैंक गवर्नर और सरकार के सचिवों पर क्यों ना कार्रवाई हो?'

नोटबंदी से गईं लाखों नौकरियां, छोटे उद्योगों पर सबसे ज़्यादा असर

आंकड़ों में जानिए नोटबंदी का सफर

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कौन से सवाल पूछे गए उर्जित पटेल से पेशी में?

1. कमिटी ने ये जानना चाहा कि 500 और 1000 के नोट वापस लेने का फैसला किसका था?

2. कमिटी ने यह भी जानना चाहा कि नोटबंदी के दौरान कितने पैसे बैंकों में जमा हुए?

3. अब तक रिज़र्व बैंक ने नए नोटों में कितना पैसा सिस्टम में डाला है?

4. आरबीआई की स्वायत्ता को लेकर भी कमिटी ने सवाल पूछे.

और क्या हुआ पेशी के दौरान

  • पटेल इस सवाल का जवाब नहीं दे पाए कि 500 रुपए और 1,000 रुपए के कितने नोट रिज़र्व बैंक में ज़मा हो गए.
  • कांग्रेस के दिग्विजय सिंह ने उर्जित पटेल से कहा कि वे सवालों का बिल्कुल सटीक जवाब दें.
  • दिग्विजय सिंह कड़ा रवैया अपनाना चाहते थे, पर मनमोहन सिंह ने यह कह कर रोक दिया कि रिज़र्व बैंक का सम्मान किया जाना चाहिए.
  • पटेल ने कहा कि नोटबंदी के मुद्दे पर सरकार और रिज़र्व बैंक के बीच बातचीत बीते साल बहुत पहले शुरू हो गई थी.
  • गर्वनर ने कहा कि नोटबंदी के मक़सद पर केंद्रीय बैंक सरकार से सहमत था.
  • बातचीत अधूरी ही रही. समिति बजट सत्र के दौरान संसद नहीं चलने के समय उन्हें फिर बुलाएगी.
  • उर्जित पटेल कई बातों का जवाब नहीं सके, कुछ सवालों के अधूरे जवाब दिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे