'स्मृति ने ही कहा था- मेरी डिग्री मत दिखाओ'

स्मृति ईरानी इमेज कॉपीरइट PIB

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने दिल्ली विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ़ ओपन लर्निंग से कहा था कि वो उनकी शिक्षा से जुड़े दस्तावेज़ आरटीआई के तहत सार्वजनिक न करे.

दिल्ली विश्वविद्यालय ने ये जानकारी (केंद्रीय मंत्री द्वारा जानकारी सार्वजनिक न करने की) मुख्य सूचना आयुक्त (सीआईसी) को दी है.

सूचना आयोग ने अब दिल्ली विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ़ ओपन लर्निंग से स्मृति ईरानी की शिक्षा से जुड़े सभी दस्तावेज़ उपलब्ध करवाने के लिए कहा है.

पढ़ें- स्मृति ईरानी: 'डिग्री' से 'डियर' तक

सोशल सरगर्मी: स्मृति की डिग्री, गॉड फ़िदा

'फ़र्ज़ी डिग्री' मामले में मोदी नहीं अकेले

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सीआईसी ने स्मृति के दस्तावेज़ मुहैया न कराने पर दिल्ली विश्वविद्यालय को एक और नोटिस जारी किया है.

स्मृति ईरानी फिलहाल भारत की टेक्सटाइल मंत्री हैं.

स्मृति ईरानी की डिग्री को लेकर तब विवाद उठ गया था जब एक याचिकाकर्ता ने अदालत में दावा किया था कि उन्होंने 2004, 2011 और 2014 में अपनी शैक्षणिक योग्यता अलग-अलग बताई है.

अप्रैल 2004 में चुनाव आयोग को दिए हलफ़नामे में स्मृति ईरानी ने कहा था कि उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से दूरस्थ शिक्षा से बीए किया है. वहीं 2011 में राज्य सभा चुनावों के हलफ़नामे में स्मृति ईरानी ने ख़ुद को बीकॉम पार्ट वन पास बताया था.

इमेज कॉपीरइट PTI

हालांकि अदालत ने याचिका यह कहकर रद्द कर दी थी कि शिकायत करने में देरी हुई है.

फिलहाल स्मृति ईरानी की शैक्षणिक योग्यता को लेकर सीआईसी के समक्ष मामला चल रहा है.

याचिकाकर्ता का कहना है कि उन्हें दिल्ली विश्वविद्यालय ने स्मृति की डिग्री से जुड़े दस्तावेज़ मुहैया नहीं कराए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे