क्या पंजाब को कभी मिलेगा दलित मुख्यमंत्री?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
बंत सिंह की पहचान दलितों के मशहूर लोकगीत गायक की रही है.

पंजाब के रहने वाले बंत सिंह इन दिनों चर्चा में हैं. उन्होंने हाल ही में आम आदमी पार्टी का दामन थामा है.

लेकिन इससे इतर उनकी अलग पहचान भी रही है. वे दलितों की आवाज़ उठाने वाले एक शख़्स के रूप में पहचाने जाते रहे हैं.

बात 2002 की है. उनकी नाबालिग़ बेटी का सामूहिक बलात्कार हुआ था. लेकिन चुप रहने के बजाए बाप और बेटी दोनों ने खुलकर आवाज़ उठाई. दोषियों को सज़ा भी हुई.

पंजाब चुनाव : 'जनरल' और 'कैप्टन' की टक्कर

पंजाब में सत्ता विरोधी लहर का नाम सुखबीर तो नहीं?

इमेज कॉपीरइट Sanjay sharma

इसके बाद बंत सिंह पर कई हमले हुए. ऐसे ही एक घातक हमले के बाद उनके दोनों हाथ और एक पैर काट देने पड़े पर जान किसी तरह बच गई.

अपने गीतों के लिए मशहूर बंत सिंह तब से दलितों के हक़ों के लिए लोकगीत गाते हैं.

सबसे ज़्यादा दलित आबादी

इस बार के चुनाव में बंत सिंह ख़ुद राजनीति में उतर आए हैं.

पूरे भारत में पंजाब में दलितों का प्रतिशत सबसे ज़्यादा है, आबादी का 32 फ़ीसदी. लेकिन आज़ादी के बाद पंजाब के इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ कि कोई दलित राज्य का मुख्यमंत्री बना हो या इसके आस-पास भी फटका हो.

इमेज कॉपीरइट AFP

जबकि उत्तर प्रदेश में दलितों के बीच अपनी पैठ बनाने वाली बहुजन समाज पार्टी के नायक कांशीराम पंजाब के होशियारपुर के ही थे. उन्होंने 1984 में पार्टी बनाई थी.

केजरीवाल बुज़दिल है: अमरिंदर सिंह

कांशीराम का परिवार उनके ननिहाल और पंजाब के रोपड़ ज़िले के पृथ्वीपुर गांव में ही रहता है. यहीं कांशीराम का जन्म हुआ था. लेकिन कांशीराम भी दलितों को पंजाब में लामबंद नहीं कर पाए. जबकि आज से करीब 22 साल पहले मायावती यूपी की मुख्यमंत्री बन चुकी थी.

इमेज कॉपीरइट AFP

पंजाब में दलित नहीं बने बड़ी शक्ति

तो क्या वजह है कि पंजाब में दलित सत्ता से दूर हैं ?

वरिष्ठ राजनीति पत्रकार जगतार सिंह के मुताबिक, "पंजाब में जाति का उस तरह से कभी उभार नहीं हो पाया जैसे उत्तर प्रदेश में है. इसके दो कारण हैं. एक तो ये ही सिख धर्म की अवधारणा जाति रहित समाज की तरह हुई थी. पंजाब में आर्य समाज का भी असर रहा."

इन 10 बातों ने कांशीराम को दलित राजनीति का चेहरा बनाया

"दूसरा बड़ा कारण है कि पंजाब का दलित बंटा हुआ है. कुछ तबकों की वफ़ादारी अकाली दल की तरफ़ और कुछ की कांग्रस की तरफ़ रही. दलित पंजाब में कभी वोट ब्लॉक नहीं रहे."

इमेज कॉपीरइट deekshabhoomi

दलितों में बंटवारा, रोटी-बेटी का रिश्ता भी नहीं

पंजाब में लेखक देसराज काली कहते हैं कि इसकी जड़ें बहुत गहरी हैं.

वो बताते हैं, "आज़ादी से पहले से ही पंजाब में दलित अलग अलग टुकड़ों में रहे. वाल्मिकी, अधर्म मूवमेंट या रविदासी, कबीरपंथी, मज़हबी सिख. 32 फ़ीसदी दलित आबादी है तो इनमें 32 गुट हैं. दूरियाँ इतनी है कि दलितों के अलग-अलग गुट आपस में रोटी-बेटी का भी रिश्ता नहीं रखते."

देसराज के मुताबिक़, "अगर एक गुट के साथ कुछ ग़लत हो जाए तो दलितों का दूसरा तबका उनका साथ नहीं देता. ऐसे में दलित एकजुटता तो दूर की कौड़ी है."

इमेज कॉपीरइट Sukhbir facebook

केजरीवाल ने किया दलित उपमुख्यमंत्री का वादा

पहली बार पंजाब के चुनाव में उतरी आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल ने दलितों को लेकर घोषणा ज़रूर की है लेकिन उपमुख्यमंत्री बनाने की. मुख्यमंत्री की कुर्सी के लिए नहीं.

कांग्रेस और अकाली दल में दलित वर्ग का कभी वर्चस्व नहीं रहा.

पंजाब में 'आप' की ज़मीन कितनी मजबूत

'केजरी पंजाब में चेहरा तो दिल्ली का सीएम कौन'

ख़ुद बंत सिंह अपनी पार्टी आप के बारे में कहते हैं कि दलित समाज के किसी व्यक्ति को मुख्यमंत्री बनाने की बात की भी जाएगी तो बहुत सारे लोग पार्टी में यूँ ही नाराज़ हो जाएँगे.

पंजाब का दलित तबका आर्थिक तौर पर उस तरह से कमज़ोर नहीं लेकिन राजनीतिक तौर पर उसकी पैठ नहीं है.

वैसे एक समय था जब लगा था कि बीएसपी पंजाब में अपनी जगह बना पाएगी.

इमेज कॉपीरइट Ginni mahi

बीएसपी भी नहीं बना पाई पैठ

1992 की विधान सभा चुनाव में बसपा को नौ सीटें मिलीं थी (तब अकाली दल ने बहिष्कार किया था) और 1996 की लोकसभा में तीन सांसद चुने गए थे.

1992 में बीएसपी का वोट शेयर 16 फ़ीसदी था जबकि 2014 के लोक सभा चुनाव में पार्टी का वोट शेयर 1.9 फ़ीसदी रह गया था.

लेकिन धीमे-धीमे से ही दलित वर्ग अब अपनी आवाज़ उठाने लगा है.

इमेज कॉपीरइट Ginni mahi

दलितों का रैप

पहले दलितों के हक़ के लिए बंत सिंह ने लोकगीतों में आवाज़ उठाई थी. आज की बात करें तो 17 साल की गुरकंवल भारती उर्फ़ गिनी माही अपने 'चमार रैप' के ज़रिए मशहूर हुई हैं.

चमार रैप,' ये किस बदलाव की आहट है?

गिनी पंजाब के जालंधर में रहती हैं जो पंजाब के सबसे अधिक दलित आबादी वाले जिलों में से एक है.

वहाँ ये गाना एंथम की तरह गाया जाता है, "हुंदे असले तों वध डेंजर चमार (हथियारों से भी अधिक खतरनाक हैं चमार)"

इस बीच बंत सिंह ख़ुद भी मानते हैं कि पंजाब में दलित मुख्यमंत्री की बात अभी किसी सपने जैसी ही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)