दो साल बाद जल्लीकट्टू शुरू, दो लोगों की मौत

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption जल्लीकट्टू पर सांड को क़ाबू करने की कोशिश की जाती है

तमिलनाडु के पुदुकोटई में जल्लीकट्टू के आयोजन के दौरान हुए हादसे में दो लोगों की मौत हो गई है और आठ लोग गंभीर रूप से घायल हैं.

तमिलनाडु में पारंपरिक उत्सव जल्लीकट्टू होता है. तमिल नव वर्ष पोंगल के मौके पर होने वाले जल्लीकट्टू में एक सांड को कई लोग क़ाबू में करने की कोशिश करते हैं और उसकी सींग से बंधे कपड़े को खोलते हैं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
जल्लीकट्टू: मरीना 'बीच' पर छठे दिन छात्रों का प्रदर्शन

इसमें सांड और कई बार उसे क़ाबू में करने की कोशिश करने वाले लोग ज़ख़्मी हो जाते हैं.

जल्लीकट्टू पर तमिलनाडु में तनाव

तमिलनाडु के स्वास्थ्य मंत्री विजय भास्कर ने रविवार को ही पुदुकोटई में जल्लीकट्टू आयोजन का उद्घाटन किया था. सांड को काबू करने की कोशिश में राजन और मोहन नाम के दो युवकों की मौत हो गई.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption जल्लीकट्टू पर सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में प्रतिबंध लगा दिया था.

जल्लीकट्टू से जुड़े अध्यादेश पर राज्यपाल विद्यासागर राव ने शनिवार को ही दस्तख़त कर दिए थे. मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम को रविवार को मदुरै के एक गांव जाकर जल्लूकट्टू की शुरुआत करनी थी, लेकिन स्थानीय विरोध की वजह से ऐसा नहीं हो पाया.

पशु कल्याण के लिए काम कर रहे कार्यकर्ताओं की एक अपील के बाद सुप्रीम कोर्ट ने साल 2014 में ही जल्लीकट्टू पर प्रतिबंध लगा दिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे