ट्रेन हादसा: 'पेड़ों पर मंजर लौटे पर वो कभी नहीं लौटेंगे'

इमेज कॉपीरइट Vimilesh Chaudhary

''समझ नहीं आ रहा है कि अपने घायल रिश्तेदारों को संभालें या लाश जलाने का इंतजाम करें.'' साजन धामी ने बीबीसी से अपनी परेशानी कुछ इस तरह बयान की.

रविवार रात करीब दस बजे जब उनसे फ़ोन पर बात हुई तब साजन दिन-भर में पहली बार अनाज का दाना पेट में डालने की तैयारी कर रहे थे.

साजन ने बताया, ''आज जब पोस्टमॉर्टम के बाद मुझे लाशें सौंपी जा रही थी तो मैंने अस्पताल वालों से कहा कि अभी शव अपने ही पास रखें. वे फिलहाल मान भी गए हैं.''

साजन के सात रिश्तेदार शनिवार की रात दुर्घटनाग्रस्त हुई हीराखंड एक्सप्रेस में मारे गए. मरने वालों में उनकी दादी, भाई, भाभी, बहन और तीन बच्चे शामिल हैं.

भारत में अब तक हुए बड़े रेल हादसे

हीराखंड रेल हादसे में मरने वालों की संख्या 39

हीराखंड एक्सप्रेस हादसा...तस्वीरों में

जब हादसे होते हैं तो क्या ट्वीट करते हैं प्रभु

साजन फिलहाल ओडिशा के रायगढ़ा में हैं. साजन के दो परिजन इस हादसे में गंभीर तौर पर घायल भी हुए हैं.

इमेज कॉपीरइट SUBRAT KUMAR PATI

उनके परिवार के पंद्रह लोग शनिवार रात करीब नौ बजे भवानीपटना जंक्शन पर विजयनगर जाने के लिए हीराखंड एक्सप्रेस के जनरल डब्बे में सवार हुए थे.

इमेज कॉपीरइट Vimilesh Chaudhary
Image caption घटना की खबर के बाद मृतकों के घर के पास जुटे लोग

साजन बेगूसराय जिले के बारा पंचायत के मिर्जापुर गांव के रहने वाले हैं. उनका परिवार देश भर में घूम-घूम कर मधुमक्खियों के छत्ते से शहद उतारने का काम करता है.

साजन रविवार को एक साथ सात शवों का अंतिम संस्कार करने की हालत में नहीं थे. उन्होंने बताया कि उनके कुछ रिश्तेदार सोमवार तक रायगढ़ा पहुंचे जिसके बाद वे अपने परिजनों का अंतिम संस्कार कर पाए.

इमेज कॉपीरइट Ranjan Rath
Image caption मृतक परिजनों का अंतिम संस्कार

हादसे के बाद साजन के गांव मिर्जापुर में मातम का माहौल है. इस गांव के तरुण कुमार रोशन ने बताया, ''साजन ने रविवार सुबह फोन कर बताया कि मेरा परिवार ख़त्म हो गया है.''

तरुण साजन के पड़ोसी भी हैं. वे बताते हैं कि हादसे की ख़बर मिलने के बाद रविवार को कई घरों में चूल्हा नहीं जला.

तरुण के मुताबिक हादसे का शिकार हुए लोग काम के सिलसिले में करीब दो महीने पहले ही गांव से निकले थे.

इमेज कॉपीरइट Vimilesh Chaudhary
Image caption मारे गए लोगों में से एक का मिर्ज़ापुर गाँव में बंद पड़ा मकान

तरुण कहते हैं,''आम और लीची के पेड़ो में मंजर आने के बाद धीरे-धीरे ये परिवार हर साल अपने गांव लौट आता था. इन पेड़ों पर तो फिर से मंजर आने लगे हैं लेकिन मेरे गांव के सात लोग अब कभी लौट कर नहीं आएंगे.''

पिछले तीन महीनों में ये दूसरा मौका है जब बिहार के एक ही इलाके से इतनी बड़ी संख्या में लोग ट्रेन हादसे का शिकार हुए हैं.

20 नवंबर को कानपुर के पास हुए जिस रेल हादसे में 140 से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई थी, उनमें से 21 लोग पटना सिटी के एक ही चैक शिकारपुर इलाके के थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे