बजट के समय को चुनौती देनेवाली याचिका सुप्रीम कोर्ट में ख़ारिज

इमेज कॉपीरइट PIB
Image caption संसद का बजट सत्र 31 जनवरी से शुरू होगा (फ़ाइल फ़ोटो)

एक फ़रवरी को आम बजट पेश करने का रास्ता साफ़ हो गया है.

सुप्रीम कोर्ट ने उस याचिका को ख़ारिज कर दिया है जिसमें पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों के ठीक पहले बजट पेश करने पर रोक लगाने की गुहार लगाई गई थी.

क्या अरुण जेटली एक फरवरी को पेश कर पाएंगे बजट?

चुनाव से तीन दिन पहले बजट क्यों?

'केजरीवाल का नाम कॉम्प्लेंट बॉक्स होना चाहिए'

इमेज कॉपीरइट Election Commission of India
Image caption मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम ज़ैदी

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार जस्टिस जेएस खेहर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की खंडपीठ ने इस तर्क को ख़ारिज कर दिया कि यह आदर्श चुनाव संहिता का उल्लंघन होगा.

उन्होंने कहा, "इस बात के पक्ष में कोई दलील नहीं दी गई है कि आम बजट मतदाताओं को प्रभावित करेगा."

जनहित याचिका दायर करनेवाले एडवोकेट एमएल शर्मा ने दरख़्वास्त की थी कि केंद्र सरकार से कहा जाए कि वह बजट एक फ़रवरी के बजाय वित्तीय वर्ष के दौरान पेश करे.

याचिका में यह भी कहा गया था कि जब तक राज्यों में चुनाव पूरे न हो जाएं, सरकार को बज़ट में किसी तरह की राहत और कार्यक्रम का एलान करने से रोका जाए.

संसद का बजट सत्र 31 जनवरी को शुरू होगा और बजट अगले दिन पेश किया जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे