फिर छाएँगे बादल या बढ़ेगा भगवंत का मान ?

इमेज कॉपीरइट facebook

"चार फ़रवरी को जिस दिन पंजाब में मतदान होगा, उसे आज़ादी दिवस के तौर पर मानाया जाएगा. 4 फ़रवरी को अगले पाँच साल तक सरकारी छुट्टी होगी और पंजाब के लोगों को अकाली दल और कांग्रेस से छुटकारा मिलेगा."

पंजाब के जलालाबाद में अपनी चुनावी रैलियों में आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार भगवंत मान लोगों को यही सपना दिखा रहे हैं.

सत्ता विरोधी लहर का नाम सुखबीर तो नहीं ?

सुखबीर कैसे बने अकाली दल के अगुआ

पंजाब के चुनाव में अगर कोई हॉट सीट है तो उसका दर्जा जलालाबाद और लंबी सीट को मिलेगा.

जलालाबाद सीट से मुकाबला दो मौजूदा सांसदों और एक उपमुख्यमंत्री के बीच है.

सुखबीर जलालाबाद के पुराने खिलाड़ी

इमेज कॉपीरइट TS BEDI

पंजाब के उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल के सामने आम आदमी पार्टी के सांसद भगवंत मान हैं. दूसरी ओर कांग्रेस ने युवा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के पोते और सांसद रवनीत सिंह बिट्टू हैं.

सुखबीर 2009 के उपचुनाव में जलालाबाद सीट जीतने के बाद से ही वहाँ से विधायक हैं तो बाकी दोनों के लिए मैदान नया है.

पंजाब चुनाव : 'जनरल' और 'कैप्टन' की टक्कर

वरिष्ठ पत्रकार विपिन पब्बी कहते हैं, " जलालाबाद से सुखबीर बादल वर्तमान विधायक हैं. भगवंत मान और रवनीत बिट्टू उन्हें चुनौती दे रहे हैं. दोनों के मैदान में होने की वजह से अकाली दल के खिलाफ़ वाला वोट बंट सकता है. इसके अलावा अकाली दल के स्थानीय सांसद रहे शेर सिंह घुबाया ने भी अकाली दल का साथ छोड़ दिया है और कांग्रेस का समर्थन कर रहे हैं.

प्रकाश सिंह बादल का मुकाबला अमरिंदर सिंह से

"एक तरह से उपमुख्यमंत्री सुखबीर बादल का मुकाबला तीन सांसदों से है".

इमेज कॉपीरइट AFP

इस बीच चुनाव अभियान ख़त्म होने को है और सभी उम्मीदवारों ने रैलियों और सोशल मीडिया के ज़रिए पूरे ज़ोर से अभियान चलाया हुआ है.

जहाँ कांग्रेस के युवा नेता रवनीत सिंह दावा कर रहे हैं कि मुकाबला 'मुनाफ़ा कमाने वाले बिज़नेस परिवार' और 'पंजाब के लिए कुर्बानी देने वाले बेअंत सिंह के पोते के बीच है'.

वहीं रवनीत पर चुटकी लेते हुए सुखबीर पत्रकारों से कहते हैं- "रवनीत तो इलाक़े में नया है, प्रचार के दौरान यहाँ की गलियाँ ढूँढनी पड़े तो मैं उन्हें घुमा सकता हूँ."

कॉमेडी के किंग रहे हैं भगवंत मान

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK BHAGWANT MANN

इस बीच रैलियों में भगवंत मान अकाली दल और कांग्रेस को निशाने पर लेते रहे हैं.

भगवंत मान से गूगल हैंगआउट

मुख्यमंत्री नहीं, दुखमंत्री बनना चाहता हूं

"ये दोनों पार्टियाँ अंदर ही अंदर मिली हुई हैं."मैंने अमरिंदर सिंह को जलालाबाद से लड़ने के लिए चुनौती दी थी. लेकिन वो 'भतीजे सुखबीर' के खिलाफ़ नहीं लड़ेगें." , भगवंत मान अपने अंदाज़ में कहते हैं.

सुखबीर बादल की बात करें तो वरिष्ठ पत्रकार जगतार सिंह कहते हैं, "पंजाब में 2007 के चुनाव में अकाली दल को मिली जीत से उनका कद ऊँचा हुआ. 2012 में अकाली दल को दोबारा मिली जीत ने उन्हें एक तरह से पार्टी सुप्रीमो बना दिया.

"उन्होंने अपने इलाके में विकास भी कराया. लेकिन बहुत से इलाक़े अब भी वंचित हैं. सत्ता-विरोधी लहर का नुकसान उन्हें झेलना पड़ सकता है. मुकाबला तगड़ा है. ''

बेअंत सिंह के वारिस हैं रवनीत

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK RAVNEET

वहीं लुधियाना से मौजूदा सांसद रवनीत सिंह बिट्टू के नाम की घोषणा पंजाब चुनाव से महज़ 15-17 दिन पहले हुई और प्रचार के लिए उनके पास सीमित मौका रहा है. साथ ही वे इलाक़े में नए हैं.

हालांकि 2014 के लोक सभा चुनाव में भी लुधियाना सीट उनके लिए नई थी पर वे वहाँ से जीते थे.

सिद्धू चुनावी पिच पर चौके-छक्के लगा पाएँगे ?

इससे ठीक उलट आम आदमी पार्टी ने पिछले साल नवंबर में ही अपनी मंशा ज़ाहिर कर दी थी कि पंजाब में उनकी पार्टी का लोकप्रिय चेहरा भगवंत मान सुखबीर बादल को चुनौती देगा.

90 के दशक में उनका टीवी पर एक मशहूर कॉमेडी किरदार था जुगनू जिसके डायलॉग अब भी मशहूर हैं. मसलन कोर्ट में वो कहते हैं- मैं जो भी कहूँगा सच कहूँगा. झूठ बोलने के लिए दस हज़ार रुपए वकील को जो दिए हैं.

अपने इन्हीं जुमलों को नए अंदाज़ में चुनावी रैलियों में लेकर जाते हैं.

भगवंत मान के विवाद

इमेज कॉपीरइट BHAGWANT MANN FB

पेशे से कॉमिडियन और गायक रहे भगवंत मान ने 2014 के लोक सभा चुनाव में संगरूर से ससंद का चुनाव जीत कर सबको हैरत में डाल दिया था.

इस बीच वो कई विवादों में भी घिरे. कभी संसद में शराब पीकर आने का आरोप तो कभी संसद की सुरक्षा को ख़तरे में डालने का.

पंजाब की राजनीति पर नज़र रखने वाले जगतार सिंह कहते हैं, "तीनों उम्मीदवारों की अपनी यूएसपी और है अपनी कमज़ोरियाँ. सुखबीर ऐसी पार्टी से हैं जो भारत की सबसे पुरानी पार्टियों में से हैं. अकाली दल का अपना वफ़ादार वोटर बेस है."

"कांग्रेस से लोगों का एतिहासिक जुड़ाव है तो सत्ता में रहने के कारण लोग उसकी नाकामियाँ भी गिनाते हैं. वहीं आम आदमी पार्टी के भगवंत मान के पास अनुभव की कमी है पर नई पार्टी होने की वजह से कोई हिस्टॉरिकल बैगेज नहीं है यानी अतीत का बोझ नहीं है. "

संसद से फेसबुक लाइव कर फंसे भगवंत मान

पंजाब में एक-एक सीट के लिए लड़ाई

इमेज कॉपीरइट TS BEDI

पंजाब में त्रिकोणीय मुकाबला है और कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के लिए एक-एक सीट कीमती रहेगी. हालांकि सीट हारने की सूरत में भगवंत मान और रविंदर बिट्टू के पास सांसद बने रहने का फ़ायदा रहेगा.

वहीं सुखबीर के लिए ये सीट प्रतिष्ठा का सवाल है.

पंजाब में छोटे बेटे को लाड़ और दुलार से काका जी कहा जाता है.

पंजाब में 'आप' की ज़मीन कितनी मजबूत

प्यार से उनके पिता और मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल सुखबीर को काका जी बुलाते हैं..

अपनी सीट और पंजाब चुनाव जीतकर सुखबीर के पास दुलारे ' काका जी' की छवि से आगे बढ़कर ये साबित करने का मौका रहेगा कि अब असली बॉस वही हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)