शौचालय का सपना पूरा करतीं ये बेटियां

इमेज कॉपीरइट Niraj sinha
Image caption पुनिया और उनकी बहन सूमी

रांची से क़रीब 55 किलोमीटर दूर गानालोया गांव पहुंचकर जब पुनिया के बारे में पूछा, तो बैलों को हांक लगा रहे एक बच्चे ने कहा, "पुनिया दीदी के घर जाने के लिए थोड़ा पीछे लौटकर बाएं वाली कच्ची गली से जाएं."

कुछ ही मिनटों में हम पुनिया के घर के सामने थे, जहां वो धूप में अपनी मुर्गियों को संभाल रही थीं.

पुनिया ने घर, खेती और कॉलेज की पढ़ाई-लिखाई के साथ-साथ शौचालय बनाने के लिए एक-एक ईंट जोड़ी.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
सूअर बेचकर शौचालय बनवाया

जब अपनी और छोटी बहन की स्कॉलरशिप के आठ हज़ार रुपए कम पड़ गए तो पुनिया ने अपने सूअर बेच डाले.

उनकी बहन सूमी ढोडराई ने उनका साथ दिया और कहा, "दीदी तू राजमिस्त्री का काम संभालना, मैं मज़दूरी पक्की करूंगी."

सूमी ढोडराई ने बताया, "हमें शौच के लिए गांव से एक किलोमीटर दूर जाना पड़ता था. फिर हमने शौचालय बनाने का फ़ैसला किया."

सूमी आगे बताती हैं, "कॉलेज में लड़कियां पुनिया से अक्सर पूछती थीं कि क्या उसे शौचालय के बिना परेशानी नहीं होती, तो फिर मैंने ठान ली कि शौचालय बनवाकर ही रहूंगी."

पुनिया उस दिन को नहीं भूलीं, महीनों की मेहनत के बाद शौचालय बन कर तैयार हो गया, जब वो शौचालय की दीवारों पर गुलाबी रंग चढ़ा रही थीं तो पुराने ख्यालों वाले मां-बाबा उसे देर तक निहारते रहे थे.

पंचायत प्रतिनिधि उर्मिला देवी कहती हैं पुनिया के इस काम ने आदिवासी इलाके में महिलाओं का मान और हौसला बढ़ाया है. वे बताने लगी कि लगभग साढ़े तीन सौ घरों वाले इस गांव में चालीस फ़ीसदी शौचालय होंगे.

इमेज कॉपीरइट Niraj sinha
Image caption पुनिया को मिला सम्मान

पुनिया की इस पहल से प्रभावित होकर प्रशासन ने उसके घर बिजली का कनेक्शन लगवा दिया है, साथ ही उसे प्रशस्ति पत्र भी दिया गया है और अब उसे स्वच्छता अभियान का ब्रांड अबेंसडर बनाने की तैयारी हो रही है.

इस तरह स्वच्छता सूची में फिसड्डी झारखंड में शौचालय निर्माण की कोशिशें तेज़ हो रही हैं.

हालांकि सरकारी आंकड़ों के मुताबिक़ 263 प्रखंडों में महज़ 18 प्रखंडों को ही खुले में शौच से मुक्त कराया जा सका है.

लौहनगरी जमशेदपुर में छठी क्लास की छात्रा मोंद्रिता चटर्जी ने अपनी जेब ख़र्च के पैसे बचाकर केंदाडीह गांव में सामुदायिक शौचालय बनाने के लिए दिए.

सामाजिक कार्यकर्ता दुर्गा के मुताबिक़ 300 ग़रीब परिवारों की बस्ती में एक भी शौचालय नहीं था.

इमेज कॉपीरइट Amitabh Chaterjee
Image caption मोद्रिता चटर्जी

मोद्रिता की मां स्वीटी चटर्जी कहती है कि कई दफ़ा जेब ख़र्च के लिए ज़्यादा पैसे मांगने पर उसे पापा की डांट सुननी पड़ती थी, लेकिन बाद में जब जानकारी मिली तो हम दोनों उसकी मुहिम में शामिल हो गए.

मोद्रिता अब हलुदबनी बस्ती के उस स्कूल में शौचालय बनाने की तैयारी में है, जहां इसके अभाव में लड़कियां स्कूल नहीं जाना चाहतीं.

इमेज कॉपीरइट Niraj sinha
Image caption नई नवेली दुल्हन के लिए बना शौचालय

जमशेदपुर के बदिया गांव में सुभाष नायक की शादी हो रही थी, किसी तरह डिप्टी कलेक्टर संजय पांडे को मालूम हुआ कि घर में शौचालय नहीं.

उन्होंने कहा कि दुल्हन शौच के लिए बाहर न जाए इसलिए बिना वक्त गंवाए श्रमदान शुरू हुआ, जो रात भर चलता रहा.

दुल्हन सुनीता की पहली प्रतिक्रिया थी, "सपने में भी नहीं सोचा नहीं था उनके लिए एक साथ कई खुशियां लेकर आएगी शादी."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे