बेला भाटिया की सीएम को चिट्टी, मांगा अमन चैन

इमेज कॉपीरइट CG KHABAR
Image caption 24 जनवरी को सामाजिक शोधकर्ता और मानवाधिकार कार्यकर्ता बेला भाटिया के घर पर कथित तौर पर हमला हुआ था.

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा है कि सामाजिक कार्यकर्ता और शोधकर्ता बेला भाटिया को सरकार ने पूरी सुरक्षा मुहैया करवाई है. बस्तर में उनके रहने को लेकर भी ज़िला कलेक्टर को दिशा-निर्देश दिए गए हैं.

मुख्यमंत्री रमन सिंह बुधवार को बस्तर पहुंचे थे जहां बेला भाटिया ने उनसे मुलाकात की.

बेला भाटिया ने मुख्यमंत्री को एक चिट्ठी सौंपी जिसमें उन्होंने उनके घर पर हुए हमले का ज़िक्र किया है.

बेला भाटिया ने बीबीसी को बताया, "मैंने अपने घर पर हुए हमले को लेकर मुख्यमंत्री को एक पत्र सौंपा और मुख्यमंत्री को पूरी वस्तुस्थिति से अवगत कराया."

आईजी से मदद मांगी, जवाब मिला

इमेज कॉपीरइट BELA BHATIA

उन्होंने अपनी चिट्ठी में लिखा है, "जैसाकि आप जानते होंगे मैं एक स्वतंत्र सामाजिक शोधकर्ता और मानवाधिकार कार्यकर्ता के रूप में बस्तर में शांतिपूर्वक रहने के लिए संघर्ष कर रही हूं. मुझे डराने के कई प्रयास किए गए हैं. 23 जनवरी को एक उन्मादी भीड़ ने मुझसे कहा कि 24 घंटे के भीतर मैं अपना घर खाली कर दूं. ऐसी घटनाएं दूसरे मुखर कार्यकर्ताओं, पत्रकारों, वकीलों, विद्वानों और दूसरे नागरिकों के साथ भी हुई हैं. ऐसे में मैं आपसे निवेदन करती हूं कि आप सुनिश्चित करें कि क़ानून के शासन का पालन हो."

बेला भाटिया को पुलिस ने दिया सुरक्षा का आश्वासन

इससे पहले राज्य में गृह विभाग के प्रमुख सचिव बीवीआर सुब्रमण्यम और विशेष पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने जगदलपुर से 15 किलोमीटर दूर पंडरीपानी गांव पहुंच कर बेला भाटिया से मुलाकात की.

डीएम अवस्थी ने कहा, "बेला भाटिया अपना काम करने के लिये स्वतंत्र हैं और पुलिस उनके काम में हस्तक्षेप नहीं करेगी. उनकी सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जाएगा."

Image caption छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने बेला भाटिया को सुरक्षा का आश्वासन दिया है

बीते कुछ सालों से बस्तर के आदिवासियों के बीच काम कर रही सामाजिक कार्यकर्ता बेला भाटिया के घर पर कुछ अज्ञात लोगों ने सोमवार को प्रदर्शन किया था और उन्हें बस्तर छोड़ देने की धमकी दी थी. ऐसा नहीं करने पर बेला भाटिया को अंजाम भुगतने की चेतावनी दी गई थी.

इस मुद्दे को लेकर देशभर में तीखी प्रतिक्रिया हुई थी जिसके बाद राज्य सरकार ने बेला भाटिया को सुरक्षा मुहैय्या करवाई. इसके अलावा पूरे मामले की दंडाधिकारी स्तर की जांच शुरू की गई है.

कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत कई नेताओं और राजनीतिक दलों ने छत्तीसगढ़ सरकार की आलोचना करते हुए कहा है कि वे बेला भाटिया के साथ हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे