अमरिंदर को कितनी चुनौती दे पाएंगे जनरल जेजे सिंह

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
जनरल जेजे सिंह कहते हैं कि वो पटियाला को 21वीं शताब्दी का स्मार्ट सिटी बनाना चाहते हैं.

पूर्व थल सेनाध्यक्ष जेजे सिंह पंजाब विधानसभा चुनाव में पटियाला की सीट पर अकाली दल की ओर से कैप्टन अमरिंदर सिंह के सामने चुनाव मैदान में हैं.

जेजे सिंह के मुताबिक़ कांग्रेस ने अमरिंदर सिंह को 'मिशन इम्पॉसिबल' जैसा काम सौंप दिया है.

बीबीसी से बातचीत करते हुए जेजे सिंह ने कहा, "अमरिंदर के पांव दो नावों में हैं, एक पांव लांबी में है तो दूसरा पटियाला में. उनके बाक़ी के दोनों हाथों में पंजाब की ज़िम्मेदारी है. ऐसे में उनका डूबना तय है. वे मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर दो चुनाव हार चुके हैं और इस बार वे हैट्रिक बना देंगे."

पंजाब चुनाव : 'जनरल' और 'कैप्टन' की टक्कर

जेजे सिंह को भरोसा है कि अमरिंदर कांग्रेस पार्टी के लिए और अपमानजनक स्थिति लाएंगे.

जेजे सिंह कहते हैं, "मुझे ये भी लगता है कि ये कांग्रेस का षड्यंत्र ही है जिसके चलते वे शाही परिवार को एक इम्पॉसिबल मिशन दे देते हैं, ताकि अमरिंदर का राजनीतिक भविष्य ख़त्म हो जाए."

इमेज कॉपीरइट Ravinder Singh Robin

पंजाबियों का साहस

अमरिंदर पर निशाना साधते हुए जेजे सिंह ये भी कहते हैं कि शाही परिवारों का जमाना लद चुका है. उन्होंने ये भी कहा कि जब भारत-पाकिस्तान का विभाजन हुआ था जो लोग पाकिस्तान से भारत आए थे, उन्हें शाही परिवारों ने ठिकाना नहीं दिया था, बल्कि उन्हें उन घरों में रहने का मौका मिला जिन्हें मुसलमान खाली कर दूसरी तरफ़ गए थे.

जेजे सिंह ने कहा, "मैं ऐसे ही घर में रहा था, महाराजा ने कुछ नहीं किया. हमने अपना जीवन ख़ुद बनाया है, आप तो पंजाबियों के साहस को जानते ही हो."

जेजे सिंह के मुताबिक अमरिंदर सिंह को राजा या महाराजा कहना भी संविधान की भावना के ख़िलाफ़ है.

जेजे सिंह थल सेनाध्यक्ष रहने के अलावा जेजे सिंह अरुणाचल प्रदेश के राज्यपाल भी रहे हैं. ऐसे में विधानसभा चुनाव लड़ने के बारे में पूछे जाने पर वे कहते हैं, "मैं लोगों का सच्चा प्रतिनिधि बनना चाहता हूं. इकलौता उम्मीदवार हूं जिसने अपने कार्ड पर अपना निजी नंबर छपवाया हुआ है, कोई दूसरा उम्मीदवार अपना निजी नंबर नहीं बताता ताकि लोग डिस्टर्ब नहीं कर सकें, लेकिन मेरे दरवाज़े हमेशा लोगों के लिए खुले हुए हैं."

इमेज कॉपीरइट Ravinder Singh Robin

18 घंटे तक काम करने की क्षमता

जेजे सिंह दावा करते हैं कि वे आदर्श विधायक की छवि पेश करेंगे क्योंकि उनकी क्षमता 18 घंटे तक काम करने की है.

अमरिंदर होंगे पंजाब में कांग्रेस का मुख्यमंत्री चेहरा

वे ये भी कहते हैं कि विधायक का काम कोई छोटा नहीं है, बल्कि ये जनता की सेवा है. वे कहते हैं, "मैं सिपाही का पोता हूं. लोग मुझसे प्रेरणा ले सकते हैं और अपने बेटे पोतों को सेनाध्यक्ष और गवर्नर बनता हुआ देखना चाहेंगे."

जेजे सिंह का मुक़ाबला भले अमरिंदर सिंह से हो, लेकिन वे अचरज जताते हुए कहते हैं कि उन्हें तो पता ही नहीं चल रहा है कि पटियाला में कांग्रेस का उम्मीदवार कौन है.

इमेज कॉपीरइट Ravinder Singh Robin

वे कहते हैं. "अमरिंदर हैं या परणीत कौर. मुझे तो केवल उनके पोस्टर देखने को मिले हैं. वे अपना प्रचार अभियान रिमोट कंट्रोल के ज़रिए चला रहे हैं."

वे अमरिंदर सिंह पर निशाना साधते हुए कहते हैं कि मैं तो पटियाला के लोगों से पूछता हूं कि क्या अमरिंदर आपसे मिलते हैं, हाथ मिलाते हैं और अगर ऐसा नहीं करते हैं तो फिर उन्हें पटियाला के लोगों से वोट मांगने का क्या हक़ है?

पंजाब: अकालियों का साथ बीजेपी की ताक़त या कमजोरी

वैसे जेजे सिंह पटियाला को 21वीं शताब्दी का स्मार्ट सिटी बनाना चाहते हैं. उनके मुताबिक अगर शिरोमणि अकाली दल और बीजेपी गठबंधन की सरकार सत्ता में आती है तब पटियाला में मेट्रो और दूसरी तमाम सुविधाओं के लिए उनके पास फंड की कमी नहीं रहेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे