छत्तीसगढ़: कमांडो पर बलात्कार के आरोप मामले में बढ़ा विवाद

बस्तर में लड़कियां इमेज कॉपीरइट Alok Putul

छत्तीसगढ़ की दो आदिवासी लड़कियों के साथ महाराष्ट्र के गढ़चिरौली ज़िले में सी-60 कमांडो द्वारा कथित बलात्कार के मामले में विवाद बढ़ता जा रहा है.

आरोप है कि पुलिस ने इस घटना का विरोध करने वाले दो सामाजिक कार्यकर्ताओं को गिरफ़्तार कर झूठे मामले में जेल भेज दिया है.

दूसरी ओर गढ़चिरौली ज़िले के कलेक्टर एएसआर नायक ने इन आरोपों का खंडन करते हुये बीबीसी से कहा- "पूरे मामले में कोई तथ्य नहीं है और कुछ लोग अफ़वाह फैला रहे हैं. लड़कियों के साथ किसी भी तरह का दुर्व्यवहार नहीं हुआ है. जिन लोगों को गिरफ्तार किया गया है, उन पर गंभीर आरोप हैं."

इधर रविवार को इस मामले की सुनवाई करते हुये नागपुर हाईकोर्ट ने दोनों लड़कियों को सुधार गृह भेजने का आदेश दिया है. अदालत ने यह भी सुनिश्चित करने के लिये कहा कि पुलिस इन दोनों लड़कियों से किसी भी तरह संपर्क में न रहे.

'बस्तर छोड़ दो वरना काट दूंगा'

आईजी से मदद मांगी, 'जवाब मिला-एफ़ यू'

बलात्कार का आरोप

मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का आरोप है कि 20 जनवरी को छत्तीसगढ़ के बस्तर के जोनवारा गांव की दो लड़कियां सीमा से लगे हुये महाराष्ट्र के गढ़चिरौली के नैनटोला गांव में अपने रिश्तेदारों से मिलने जा रही थीं, जहां शाम को गढ़चिरौली ज़िले में सी-60 कमांडो ने उन्हें रोक लिया और कथित रूप से रात में उनके साथ बलात्कार किया.

नागपुर हाईकोर्ट के वकील निहाल सिंह राठौर का आरोप है कि इस मामले में हाईकोर्ट में याचिका दायर करने के बाद यह जानकारी मिली कि दोनों लड़कियों को पुलिस ने छोड़ दिया लेकिन शनिवार को इस मामले में मुक़दमे की तैयारी के लिये निहाल सिंह के कार्यालय पहुंचे सामाजिक कार्यकर्ता सैनू गोटा को सादी वर्दी में आये पुलिस के लोग अपने साथ ले गये.

इमेज कॉपीरइट Rinchin
Image caption पुलिस अधिकारियों से बात कर रहे हैं निहाल सिंह

निहाल के अनुसार- "शाम को मेरे कई वकील साथियों की उपस्थिति में सादी वर्दी में आये पुलिसकर्मियों ने मेरे चेंबर से बिना कोई कारण बताये सैनू गोटा, उनकी पत्नी शीला गोटा और दोनों पीड़ित लड़कियों को उठा लिया और उन्हें अज्ञात स्थान पर ले गये."

प्रशासन का इनकार

लेकिन गढ़चिरौली के कलेक्टर एएसआर नायक ने पूरे मामले को मनगढ़ंत बताते हुये कहा है कि 20 जनवरी की शाम को एक मुठभेड़ के बाद पुलिस ने घटनास्थल के पास से कुछ लोगों को पकड़ा और उनसे पूछताछ की. बाद में स्थिति को देखते हुये सभी लोगों को रात में वहीं रुकने का सुझाव दिया गया और सुबह सभी लोग सुरक्षित अपने परिजनों के यहां चले गये.

एएसआर नायक ने बीबीसी से कहा- "दोनों लड़कियों के परिजन और माता भी वहां पहुंचे थे, दोनों लड़कियों को उन्हें सौंपा गया. लिखित में उनके बयान हैं, मीडिया के सामने उनके बयान हैं. कथित मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को कहां से उनके साथ दुर्व्यवहार की जानकारी मिली, यह नहीं पता. लेकिन कुछ लोगों ने पूरे मामले में झूठी अफ़वाह फैलाई है. "

इमेज कॉपीरइट Alok Putul

कलेक्टर का कहना था कि लोगों की मांग पर दोनों ही लड़कियों का मेडिकल टेस्ट करवाया गया और लड़कियों ने महिला चिकित्सक, पुलिस और दूसरे लोगों को बार-बार बयान दिया है कि उनके साथ ऐसी कोई घटना नहीं हुई है.

इधर इस मामले में नागपुर हाईकोर्ट में रविवार को हुई विशेष सुनवाई के दौरान अदालत के आदेश पर दोनों लड़कियों को अदालत में पेश किया गया. जहां से उन्हें अदालत के निर्देश पर सुधार गृह भेज दिया गया है. अब मामले की सुनवाई सोमवार को होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे