प्रेस रिव्यूः आ सकता है पाकिस्तान का भी नंबर

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हिन्दुस्तान टाइम्स में ख़बर है कि ट्रंप के आप्रवासियों पर पाबंदी लगाने की सूची में पाकिस्तान का भी नाम शामिल हो सकता है. अख़बार के अनुसार व्हाइट हाउस के एक बड़े अधिकारी ने ऐसी संभावना जताई है जिससे पहली बार ये पता चलता है कि पाकिस्तान के नाम पर भी विचार हो रहा है.

व्हाइट हाउस के चीफ़ ऑफ़ स्टाफ़ राइंस प्रीबस ने अमरीकी टीवी चैनल सीबीएस पर कहा है कि अस्थायी पाबंदी की सूची में शामिल देशों की तरह और भी कई देश हो सकते हैं जिनके यहाँ ऐसी ही समस्याएँ हैं, जैसे पाकिस्तान या दूसरे देश और शायद इस पाबंदी को और आगे ले जाया जाए.

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका में भारतीय हिरासत में

वहीं हिंदू में ख़बर है कि अमरीका के नॉर्थ डकोटा राज्य में हवाई अड्डे पर एक भारतीय व्यवसायी को हिरासत मे ले लिया गया है. अख़बार के अनुसार सुरक्षाकर्मियों ने बड़ौदा के इस बिज़नेसमैन को आतंक फैलाने का आरोप लगाते हुए एक जेल में भेज दिया है.

अख़बार के अनुसार ये व्यवसायी एक हफ़्ते के लिए अमरीका के बिज़नेस दौरे पर था जब हवाई अड्डे पर कथित तौर पर उनकी हवाई सेवा कर्मचारियों से नोंक-झोंक हो गई जिसमें उनपर आरोप लगा है कि उन्होंने धमकी दी कि उनके बैग में एक बम है.

हिंदू के अनुसार उसे सोमवार को अदालत में पेश किया जा सकता है. वॉशिंगटन स्थित भारतीय दूतावास ने हिंदू को बताया है कि संबंद्ध वाणिज्यिक दूतावासों को और जानकारी लेने के लिए कहा गया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान ने भारत का न्योता ठुकराया

टाइम्स ऑफ़ इंडिया में एक ख़बर है कि भारत ने पाकिस्तान के साथ संबंध सामान्य करने की एक कोशिश के तौर पर उसे अगले महीने इंदौर में दक्षिण एशियाई देशों के एक सम्मेलन में आमंत्रित किया है. मगर पाकिस्तान ने इसे ठुकरा दिया है.

अख़बार ने शीर्ष सरकारी सूत्रों के हवाले से ये ख़बर दी है. उसने लिखा है कि इस सम्मेलन में पहली बार म्यांमार को भी आमंत्रित किया गया था, मगर समझा जाता है कि उसने भी इसमें हिस्सा लेने से इनकार कर दिया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

चुनाव आयोग रिज़र्व बैंक से नाराज़

इंडियन एक्सप्रेस में ख़बर है कि चुनाव आयोग ने रिज़र्व बैंक से पाँच राज्यों में हो रहे चुनावों में खड़े प्रत्याशियों के लिए बैंकों से निकासी की साप्ताहिक सीमा को बढ़ाकर 24,000 रूपए से दो लाख रूपए करने का निर्देश दिया है.

अख़बार के अनुसार चुनाव आयोग ने इस बारे में पहले आग्रह किया था मगर रिज़र्व बैंक ने उसपर ध्यान नहीं दिया जिसपर नाराज़गी जताते हुए आयोग ने रिज़र्व बैंक को याद दिलाया कि चुनाव की अवधि में उसके निर्देशों का पालन करना ही होगा.

आयोग ने आरबीआई प्रमुख उर्जित पटेल को चिट्ठी भेजी है जिसमें कहा है कि बैंक ने मामले की गंभीरता का अंदाज़ा नहीं लगाया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)